Wednesday , December 13 2017

आज आलमी यौम जिगर

हैदराबाद । ( सियासत न्यूज़ ) : अमराज़ जिगर के ताल्लुक़ से अवाम में बेदारी पैदा करने की शदीद ज़रूरत है क्यों कि मौत की दस अहम वजूहात में जिगर के नाकारा होजाना भी एक अहम वजह होती है । लिहाज़ा अमराज़ जिगर का क़ब्ल अज़ वक़्त पता चलाने की सूरत में

हैदराबाद । ( सियासत न्यूज़ ) : अमराज़ जिगर के ताल्लुक़ से अवाम में बेदारी पैदा करने की शदीद ज़रूरत है क्यों कि मौत की दस अहम वजूहात में जिगर के नाकारा होजाना भी एक अहम वजह होती है । लिहाज़ा अमराज़ जिगर का क़ब्ल अज़ वक़्त पता चलाने की सूरत में इस का सद फीसद ईलाज मुम्किन ज़रूर है लेकिन आज के मौजूदा हालात में कोई भी अफ़राद अपनी ज़िंदगी पर ख़ुसूसी तवज्जा नहीं देते जिस की वजह से इंसानी जिस्म में पाई जाने वाली बीमारियों का काफ़ी ताख़ीर से पता चलता है । जिस की वजह से बाज़ औक़ात इन बीमारियों का ईलाज मुम्किन नहीं होसकता है ।

19 अप्रैल को आलमी यौम जिगर ( लीवर ) के सिलसिला में अख़बारी नुमाइंदों से बात चीत करते हुए डाक्टर के रवेनदरा नाथ सदर नशीन‍ ओ‍ मेनेजिंग डायरैक्टर ग्लोबल हॉस्पिटल , डाक्टर चंद्रा शेखर राउ , एकज़ेकटीव डायरेक्टर डाक्टर वीनू गोपाल राउ और डाक्टर मोहन मुमताज़ माहिरीन अमराज़ जिगर , ग्लोबल हॉस्पिटल ने ये बात कही और बताया कि अमराज़ जिगर से मुताल्लिक़ अवाम में बड़े पैमाने पर नया शऊर बेदार करने के लिए ख़ुसूसी मुहिम चलाई जा रही है और इस मुहिम के दौरान अमराज़ जिगर पर क़ाबू पाने के लिए इख़तियार की जाने वाली तदाबीर वगैरह से वाक़िफ़ करवाया जाएगा । क्यों कि जिगर ( लीवर ) इंसानी जिस्म एक इंतिहाई अहम आज़ा में शुमार किया जाता है और अमराज़ जिगर में जितनी एहतियात करें इतना ही मर्ज़ में कमी होती है ।

डाक्टर रवींद्र नाथ ने बताया कि हर साल दो लाख अफ़राद की जिगर के नाकारा होजाने की वजह से मौत वाके होती है । अमराज़ जिगर की अहम वजूहात में शराबनोशी-ओ-सिगरेट नोशी दीगर वजूहात शामिल हैं ।

सदर नशीन‍ ओ‍ मेनेजिंग डायरेक्टर ग्लोबल हॉस्पिटल ने बताया कि हेप्टाईस ए बी ओ से मुतास्सिरा हर दस अफ़राद में कम अज़ कम एक फ़र्द अमराज़ जिगर में मुब्तला पाया जाता है । इस के इलावा जिगर का केंसर भी होता है । इस मर्ज़ से आदमी को नजात हासिल करना मुश्किल होजाता है ।

उन्हों ने मज़ीद बताया कि बज़ाहिर अच्छे सेहत मंद अफ़राद को भी अमराज़ जिगर के मसाइल से दो-चार होना पड़ता है । डाक्टर रवींद्र नाथ ने कहा कि ग्लोबल हॉस्पिटल को अब तक 200 जिगर के अमराज़ में मुब्तला अफ़राद के जिगर की तब्दीली करने का एज़ाज़ हासिल है और ग्लोबल हॉस्पिटल ख़ुसूसी तौर पर जिगर की पैवंद कारी के लिए ही काफ़ी शौहरत रखता है ।

TOPPOPULARRECENT