Thursday , December 14 2017

आज पेश होंगा परवेज़ मुशर्रफ के ख़िलाफ़ गद्दारी का मुकदमा

पाकिस्तान के साबिक फौजी हुक्मरान परवेज़ मुशर्रफ के ख़िलाफ़ मंगल के रोज़ से गद्दारी के इल्ज़ामात में मुकदमा शुरू होगा वह इस्लामाबाद में खुसूसी अदालत के सामने पेश होंगे इससे पहले अदालत ने उनकी इस दरखास्त को ख़ारिज कर दिया जिसमें उन्

पाकिस्तान के साबिक फौजी हुक्मरान परवेज़ मुशर्रफ के ख़िलाफ़ मंगल के रोज़ से गद्दारी के इल्ज़ामात में मुकदमा शुरू होगा वह इस्लामाबाद में खुसूसी अदालत के सामने पेश होंगे इससे पहले अदालत ने उनकी इस दरखास्त को ख़ारिज कर दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि सिर्फ फौजी सैन्य अदालत में ही उनका मुकदमा चल सकता है |

यह मुकदमा उन पर साल 2007 में आईन (संविधान) को मुअत्तल कर इमरजेंसी लगाने के मामले में चलाया जा रहा है कई दूसरे मामलों में ज़मानत पा चुके परवेज़ मुशर्रफ़ ने कहा, मुझ पर सभी इल्ज़ाम सियासत से मुतास्सिर हैं |

70 साला मुशर्रफ पर इसके अलावा कत्ल और अदालत पर बंदिशें लगाने के भी इल्ज़ाम हैं पाकिस्तान में पहली मर्तबा किसी साबिक फौजी हुक्मरान पर गद्दारी का मुक़दमा चलाया जा रहा है |

परवेज़ मुशर्रफ ने एक फौजी तख्तापलट में 1999 में इक्तेदार हासिल किये थें और वह 2008 तक मुल्क के सदर रहे इसके बाद एक जम्हूरी तरीके से चुनी गई हुकूमत ने उन्हें इस्तीफ़ा देने पर मजबूर कर दिया |

इसके बाद वह मुल्क से बाहर चले गए थे पीर के रोज़ उनके वकील ने यह दलील दी थी कि 2007 में फौजी सरबराह होने की वजह से मुशर्रफ के ख़िलाफ सिर्फ एक फौजी अदालत को ही उन पर मुकदमा चलाने के हुकूक हासिल है लेकिन इस्लामाबाद के हाई कोर्ट ने उनकी यह दलील ख़ारिज कर दी अदालत ने जजों और वकीलों की तकर्रुरी पर उठाये गये ऐतराज़ को भी ख़ारिज कर दिया |

2008 में इस्तीफ़ा देने के बाद परवेज़ मुशर्रफ़ ऐलानकर्दा ज़िला वतनी के तहत दुबई और लंदन में रहे इस साल में मार्च में आम इंतेखाबात में हिस्सा लेने के लिए वो पाकिस्तान लौटे लेकिन उन्हें नाअहल ऐलान कर दिया गया |

2008 में इस्तीफ़ा देने के बाद परवेज़ मुशर्रफ़ खुद ज़िला वतनी (Self deportation) में दुबई और लंदन में रहे | वह अपने दौर ए इक्तेदार से मुताल्लिक बहुत से इल्ज़ामात का सामना भी कर रहे हैं पिछले हफ़्ते परवेज़ मुशर्रफ ने अपने नौ साल की हुक्मरानी के दौरान किए गए कामों का बचाव किया था |

उन्होंने कहा, मैंने जो भी किया वह पाकिस्तान के और पाकिस्तान की आवाम की भलाई के लिए था उन्होंने पाकिस्तान के एक निजी टीवी चैनल एआरवाई से कहा, मैं सभी मुकदमों का सामना करूँगा, मैं भागूंगा नहीं |

TOPPOPULARRECENT