Monday , September 24 2018

आतंकी इंडियन मुजाहिदीन कारकुन फ़सीह मुहम्मद गिरफ़्तार

सऊदी अरब में पाँच माह तक हिरासत में रहने के बाद इंडियन मुजाहिदीन के एक मुश्तबा कारकुन फ़सीह मुहम्मद को आज हिंदूस्तान मुंतक़िल कर दिया गया जहां उस को गिरफ़्तार कर लिया गया । शुबा है कि फ़सीह मुहम्मद दिल्ली और बैंगलौर धमाकों में मुबय

सऊदी अरब में पाँच माह तक हिरासत में रहने के बाद इंडियन मुजाहिदीन के एक मुश्तबा कारकुन फ़सीह मुहम्मद को आज हिंदूस्तान मुंतक़िल कर दिया गया जहां उस को गिरफ़्तार कर लिया गया । शुबा है कि फ़सीह मुहम्मद दिल्ली और बैंगलौर धमाकों में मुबय्यना तौर पर मुलव्वस ( भागीदार) है ।

फ़सीह मुहम्मद का बिहार से ताल्लुक़ है और वो पेशे से इंजीनियर हैं। उन्हें एक आम परवाज़ ( local plane) के ज़रीया हिंदूस्तान रवाना किया गया और दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयर पोर्ट पर आमद ( आने) के फ़ौरी ( फौरन) बाद गिरफ़्तार कर लिया गया ।

हिंदूस्तान ने सऊदी अरब से ख़ाहिश की थी कि फ़सीह मुहम्मद को हिंदूस्तान मुंतक़िल किया जाए । इसके ख़िलाफ़ इंटरपोल की रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी करवाई गई थी । 28 साला फ़सीह मुहम्मद को सऊदी अरब में जारीया साल मई के पहले हफ़्ते में गिरफ़्तार किया गया था ।

मोतमिद दाख़िला (Union Home Secretary) मिस्टर आर के सिंह ने अख़बारी नुमाइंदों ( पत्रकारो) से बात चीत करते हुए कहा कि ये एक अहम गिरफ़्तारी है । उन्हें सऊदी अरब से हिंदूस्तान मुंतक़िल किया गया है । उन्होंने कहा कि फ़सीह मुहम्मद इंडियन मुजाहिदीन के इन 13 मुबय्यना दहशतगर्दों को हर तरह की सहूलयात फ़राहम किया करता था जिन्हें बिहार और उत्तर प्रदेश के इलावा कुछ दूसरे मुक़ामात से गिरफ़्तार किया गया था ।

शुबा किया जाता है कि फ़सीह मुहम्मद का ताल्लुक़ मुबय्यना ( कथित) तौर पर इंडियन मुजाहिदीन नामी तंज़ीम ( संगठन) से है । ये भी शुबा है कि वो बैंगलौर में चिन्नास्वामी स्टेडीयम में हुए बम धमाका और दिल्ली की जामा मस्जिद के करीब हुए फायरिंग के वाक़िया में मुलव्वस ( मिला हुआ) है । ये वाक़ियात 2010 में पेश आए थे ।

फ़सीह मुहम्मद दिल्ली और कर्नाटक पुलिस को मतलूब (जरूरत) है । सय्यद ज़बीह अली उद्दीन उर्फ़ अबू जंदाल को भी जारीया साल के अवाइल ( शुरुआत) में सऊदी अरब से हिंदूस्तान मुंतक़िल किया गया था । शुबा है कि वो मुंबई में हुए दहशत गिरदाना हमलों का एक असल मंसूबा साज़ है ।

अबू जिंदल की हिंदूस्तान मुंतक़ली ( Transfer/ भेजे जाने ) के बाद सऊदी हुक्काम ने इस के ताल्लुक़ से ज़राए इबलाग़ ( Media) में तशहीर पर एतराज़ किया था । ख़लीजी मुल्क के एक वफ़द ( टीम/प्रतिनिधीमंडल) ने क़ौमी सलामती मुशीर शिव शंकर मेनन से भी मुलाक़ात की थी । सऊदी हुकूमत ने हिंदूस्तान से कई दस्तावेज़ात हासिल करने के बाद फ़सीह मुहम्मद को हिंदूस्तान रवाना किया है ।

इन में मुबय्यना तौर पर इंडियन मुजाहिदीन के अरकान ( मेम्बर्स/ members)) के ब्यानात भी शामिल हैं जिन्हें दिल्ली पुलिस ने गुज़शता साल गिरफ़्तार किया था । सरकारी ज़राए ने ये बात बताई । फ़सीह मुहम्मद का नाम गुज़शता एक साल के दौरान मुख़्तलिफ़ ( अलग अलग) इंडियन मुजाहिदीन कारकुनों ( कार्यकर्ताओ) से हुई पूछताछ के दौरान सामने आया था ।

हुकूमत सऊदी अरब ने तमाम दस्तावेज़ात की जांच के बाद फ़सीह मुहम्मद को हिंदूस्तान के हवाले किया है ।फ़सीह की शरीक हयात ( बीवी) निकहत प्रवीन ने सुप्रीम कोर्ट से रुजू होते हुए इद्दिआ ( दावा) किया था कि इनके शौहर को मर्कज़ी सिक्योरिटी एजेंसियों ने हिरासत में ले लिया है ।

हुकूमत ने इस इल्ज़ाम की तरदीद ( खंडन) की थी । इस दौरान सऊदी अरब ने एक और मुश्तबा लश्कर-ए-तयबा कारकुन अब्दुल रईस को हिंदूस्तान के हवाले कर दिया जो 2009‍ धमाको ज़ख़ीरा ( भंडार) मुक़द्दमा के सिलसिला में केरला पुलिस को मतलूब था ।

समझा जाता है कि अब्दुल रईस ममनूआ पाकिस्तानी दहशतगर्द तंज़ीम ( संगठन) के रुकन ( सदस्य) थडीनता वेडे नज़ीर का साथी था उसे मुंबई भेजा गया जहां केरला पुलिस ने तक़रीबन 15 दिन क़बल गिरफ़्तार कर लिया । मर्कज़ी मोतमिद दाख़िला (Union Home Secretary) आर के सिंह ने पी टी आई को बताया कि रईस को सऊदी अरब ने हवाले कर दिया है और केरला पुलिस ने उसे तहवील ( कब्जे/ हिरासत) में ले लिया ।

TOPPOPULARRECENT