Monday , December 11 2017

आदिवासी मूलवासी छात्र मोर्चा का झारखंड बंद 30 को

आदिवासी मूलवासी छात्र मोर्चा की तरफ से 30 नवंबर को झारखंड बंद का ऐलान किया गया है। मोर्चा ने हुकूमत पर हर मामले में नकामयाबी रहने का इल्ज़ाम लगाया है। मोर्चा के मर्कज़ी सादर कमलेश राम ने मंगल को सहाफ़ियों को यह जानकारी दी। उन्होंने बत

आदिवासी मूलवासी छात्र मोर्चा की तरफ से 30 नवंबर को झारखंड बंद का ऐलान किया गया है। मोर्चा ने हुकूमत पर हर मामले में नकामयाबी रहने का इल्ज़ाम लगाया है। मोर्चा के मर्कज़ी सादर कमलेश राम ने मंगल को सहाफ़ियों को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि रियासत कायम के 13 साल बाद भी हुकूमत मुक़ामी बाशिंदे, बहाली, नक़ल मकानी, तालीम और सनअति पॉलिसियाँ न तो तय कर पायी है और न ही इस पर किसी सतह से काम चल रहा है।

इस वजह लाखों तालिबे इल्म और नौजवान के पास रोजगार नहीं हैं। नौकरी नहीं मिलने की वजह नौजवानों को मजदूरी करनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि कायदे से जिला सतह पर तीसरी और चौथी तबके के ओहदे पर मुक़ामी पॉलिसी के तहत बहाली होनी चाहिए थी लेकिन हुकूमत ऐसा करने की ताकत ही नहीं है। इस वजह से 30 नवंबर को बंद बुलाया गया है। उन्होंने कहा कि आजसू पार्टी रियासत के नौजवानों की सबसे बड़ी दुश्मन है। ओहदे खोने के बाद आजसू सरबराह खुसुसि रियासत का राग अलाप कर नौजवानों और झारखंड के वाशिंदों को दिग्भ्रमित करने का काम कर रहे हैं।
प्रेस कोन्फ्रेंस में पंकज कुमार, अमन उरांव, लक्ष्मरण राम, वीर सिंह मुंडा, संदीप पासवान, पवन कुमार, मंटू सिंह, द्वारिका दास समेत दीगर मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT