Thursday , January 18 2018

आधार ग़रीबों के लिए इख्तियार का हथियार: चिदम़्बरम

वज़ीरफ़ीनानस पी चिदम़्बरम ने आज मुनफ़रद शनाख़ती नंबर यानी आधार को ग़रीबों के लिए इख़्तयारात का हथियार क़रार दिया ख़ुसूसन उन अफ़राद के लिए जो नक़ल मुक़ामी करते हैं, बेघर हैं और बेसहारा हैं।

वज़ीरफ़ीनानस पी चिदम़्बरम ने आज मुनफ़रद शनाख़ती नंबर यानी आधार को ग़रीबों के लिए इख़्तयारात का हथियार क़रार दिया ख़ुसूसन उन अफ़राद के लिए जो नक़ल मुक़ामी करते हैं, बेघर हैं और बेसहारा हैं।

अपने बजट के दौरान तक़रीर में उन्होंने कहा कि मुझे इस बात में कोई शक नहीं है कि आधार कार्ड ग़रीबों के लिए और बेसहारा अफ़राद के लिए इख़्तयारात के हथियार की हैसियत रखता है। उन्होंने कहा कि आधार कार्ड किस की ज़रूरत है? ये इस के लिए है जो सतह ग़ुर्बत से नीचे ज़िंदगी गुज़ारते हैं। इन ग़रीबों के लिए जो नक़ल मुक़ामी पर मजबूर होते हैं। उन वर्करों के लिए है जो ज़रिया मआश के लिए उधर से उधर आते जाते रहते हैं।

बेघर, बेसहारा अफ़राद को ही तो आधार कार्ड की ज़रूरत है और हम इस बात को यक़ीनी बनाएंगे कि उन्हें आधार कार्ड हासिल होजाए। गुजिश्ता साल मर्कज़ी हुकूमत को गैस सब्सीडी के लिए आधार कार्ड को लाज़िमी बनाए जाने पर हर तरफ़ से तन्क़ीद का निशाना बनाया गया था जिस के तहत मख़सूस जिले में गैस सब्सीडी की रक़म को बराह-ए-रास्त इस्तिफ़ादा कुनुन्दगान के अकाउंट में मुंतक़िल किया जा रहा है।

अदालत अज़मी ने मर्कज़ से कहा कि हुकूमत उन अफ़राद को सब्सीडी की रक़म फ़राहम करने से इनकार नहीं कर सकती जिनके पास आधार कार्ड नहीं हैं। इस अहकाम के बाद इस स्कीम को जगह‌ अलतवा में डाल दिया है। ताहाल इस स्कीम के तहत 3370 करोड़ रुपये 2.1 करोड़ इस्तिफ़ादा कुनुन्दगान के अकाउंट में मुंतक़िल किया गया है।

चिदम़्बरम ने कहा कि इस स्कीम को चंद वजूहात के सबब जगह‌ अलतवा में रखा गया है। उन के मुताबिक़ 27 स्कीमात के तहत इस्तिफ़ादा कुनुन्दगान के अकाउंट में रक़म मुंतक़िल किए गए हैं जिस में नेशनल सोशल अस्सिटेंट प्रोग्राम के तहत जुमला 54,20,114 टरानसकशन 31 जनवरी तक अंजाम दिए गए हैं और 628 करोड़ रुपये मुंतक़िल किए गए।

TOPPOPULARRECENT