आफरीन शहर पर फैसला तुर्की करेगा, असद के हवाले करने के लिए रुस दबाव नहीं दे सकता- एर्दोगन

आफरीन शहर पर फैसला तुर्की करेगा, असद के हवाले करने के लिए रुस दबाव नहीं दे सकता- एर्दोगन
Click for full image

तुर्की के राष्ट्रपति रसेप तय्यिप एर्दोगान ने मंगलवार को सीरिया के अफ्रिन क्षेत्र के भविष्य पर रूस के रुख की आलोचना की, और कहा कि अंकारा खुद ही तय करेगा की कब यह क्षेत्र सीरिया के लोगों को वापस दिया जाए।

हम निर्धारित करेंगे की अफ्रिन को कब नागरिकों को सौंपा जाए
एर्दोगान ने रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की टिप्पणियों को ख़ारिज करते हुए कहा की “हम बहुत अच्छी तरह से जानते हैं कि हम अफ्रिन को हाथ में ले लेंगे, पहले हम उन देशों के बारे में बात करते हैं जिन्होंने सीरिया में नियंत्रण बनाया हुआ है।

एर्दोगान ने कहा की “जब सही समय आएगा तो हम अफरीन को वहाँ के लोगों को सौंप देंगे, यह समय हमारे उपर है की कब हम निर्धारित करें, इसे हम निर्धारित करेंगे, मिस्टर लावरोव नहीं।

अरब न्यूज के अनुसार “सोमवार को लावरोव ने कहा था कि अफरीन में स्थिति को सामान्य करने का सबसे आसान तरीका यह है की वह क्षेत्र सीरियाई सरकार के नियंत्रण में कर देना चाहिए।

अरब न्यूज के अनुसार जबकि सीरिया में कुछ हिंसा को दूर करने के लिए तुर्की, रूस और ईरान दोनों के साथ सहयोग कर रहा है, अंकारा ने लंबे समय से मांग भी की है कि राष्ट्रपति बशर असद जाना चाहिए और उनके खिलाफ विद्रोहियों का समर्थन किया है और असद के मुख्य समर्थक मॉस्को और तेहरान हैं।

तुर्की ने उत्तर पश्चिमी अफ्रिन जिले से कुर्द YPG के खिलाफ एक सैन्य अभियान चलाया है जबकि रूसी एयर पॉवर और ईरान के समर्थित लड़ाकों ने इडलीब और घौटा क्षेत्रों में सीरियाई शासन को समर्थन दिया है। ईरानी राष्ट्रपति हसन रोहनी ने भी कहा है कि अफरीन को सीरिया की सेना को सौंप दिया जाना चाहिए।

Top Stories