Monday , November 20 2017
Home / test / आरा: मोहर्रम पर दंगाइयों ने जमकर मचाया उत्पात

आरा: मोहर्रम पर दंगाइयों ने जमकर मचाया उत्पात

आरा। बिहार के भोजपुर बिहार के भोजपुर जिले के पीरो में साम्प्रदायिक तनाव के बाद 21 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। भोजपुर जिले के अंतर्गत आने वाले पीरो में में सांप्रदायिक हिंसा के बाद हालात तनावपूर्ण बनी हुए है। शनिवार में हुए साम्प्रदायिक तनाव के पुलिस ने वहां सर्तकता बढ़ा दी है।। जिला प्रशासन ने शहर के करीब 15 संवेदनशील जगहों पर साढ़े तीन सौ पुलिस जवानों की तैनाती की है और शहर में धारा 144 लगा दिया है। किसी भी अफवाह को फैलने से रोकने के लिए प्रशासन ने शहर में इंटरनेट सेवा अस्थाई रूप से बंद करा दिया है। इस दौरान बाजार बंद है और पीरो-आरा रूट और आरा-सासाराम रूट पर आवागमन भी बंद है। दुर्गा प्रतिमा विसर्जन और मोहर्रम के ताजिया जुलूस के दौरान हुई साम्प्रदायिक झड़प की शुरुआत हुई थी, जिसके आग धीरे धीरे पूरे इलाके में फैल गई।
स्थानीय नागरिकों के मुताबिक भोजपुर के जिलाधिकारी बीरेन्द्र प्रसाद ने हालात पर नियंत्रण पाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। हार्डवेयर की दुकान चलानेवाले राजेन्द्र प्रसाद ने कहा कि दुर्गा प्रतिमा विसर्जन और ताजिया जुलूस के दौरान दोनों पक्षों की तरफ से शक्ति प्रर्दशन किया जा रहा था। ऐसे धार्मिक जुलूस में युवाओं के हाथों में हॉकी डंडों का क्या काम था? प्रशासन की धार्मिक जुलूस को नियंत्रण करने का कोई इंतजाम नहीं किया था। एक अन्य सूत्र ने बताया कि पीरो की सियासत भी इस हंगामे की वजह हो सकती है। इलाके के दबंग नेता सुनील पांडेय पिछले कई सालों से वहां के विधायक रहे हैं लेकिन इस बार उन्हें सीपीआई (एमएल) के हाथों हार का सामना करना पड़ा है।फिलहाल प्रशासन ने वहां तनाव को देखते हुए अगले आदेश तक कर्फ्यू लगा दिया है।
 साम्प्रदायिक तनाव कैसे फैला
12 अक्टूबर: भोजपुर जिले के पीरो में ताजिया जुलूस और मुर्ति विर्सजन के दौरान दो गुटों में झड़प हो गई। DSP और पुलिस के दो जवान घायल हुए और पुलिस ने हवाई फायरिंग की।
13 अक्टूबर: 6 गाड़ियां जला दी गई। पीरो में पूरे दिन आगजनी और तोड़फोड़ हुई। पुलिस ने पूरे क्षेत्र को छावनी में तब्दील कर दिया।
14 अक्टूबर: उपद्रवियों ने पैसेंजर ट्रेन पर पथराव किया। पुलिस पर पथराव और फायरिंग भी की। ट्रेन में सवार लोगों को लाठी और रॉड से पीटा।
15 अक्टूबर: इंटरनेट सेवा बंद करने के बाद कुछ दूरसंचार कंपनियों की वायस सेवा भी प्रभावित। अब तक 21 से अधिक लोग गिरफ्तार किए गए हैं।
TOPPOPULARRECENT