Friday , December 15 2017

आर टी सी में बायो डीज़ल के इस्तेमाल को फ़रोग़ देने का फ़ैसला

आंध्र प्रदेश स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन ने ओपन टेंडर्स के ज़रीये बायो डीज़ल हासिल करने के लिए एक आलामीया जारी किया है।

आंध्र प्रदेश स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन ने ओपन टेंडर्स के ज़रीये बायो डीज़ल हासिल करने के लिए एक आलामीया जारी किया है।

एक प्रेस रीलीज़ में ये बात बताई गई है और कहा गया हैके तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में तमाम बसों में बड़े पैमाने पर बायो डीज़ल इस्तेमाल किया जाएगा।

आर टी सी आलामीया में कहा गया हैके इस फ़ैसले का मक़सद जहां फ़्यूल पर आने वाले अख़राजात को कम से कम करना है वहीं इस से माहौलियाती तहफ़्फ़ुज़ में भी मदद मिलेगी।

फ़िलहाल ए पी एस आर टी सी की तरफ से सालाना 50 करोड़ लीटर हाई स्पीड डीज़ल इस्तेमाल किया जाता है। इस का 10 फ़ीसद तक बायो डीज़ल से तबदील करने के नतीजा में सालाना 30 करोड़ रुपय की बचत मुम्किन होसकेगी।

आलामीया में ये बात बताई गई। स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन ( तेलंगाना-ओ-आंध्र प्रदेश ) की तर्फ से मालीयाती साल 2013 – 14 में ही हाई अस्पेडल डीज़ल के हुसूल में 2,367 करोड़ रुपये ख़र्च किए गए हैं और हाई स्पीड डीज़ल की कीमतोंम यं मज़ीद इज़ाफ़ा के नतीजे में मालीयाती बोझ में इज़ाफ़ा होगया है।

TOPPOPULARRECENT