Monday , December 18 2017

आर बी आई की शरह सूद में कोई तबदीली नहीं

मुंबई, २५ जनवरी (पी टी आई) रिज़र्व बैंक आफ़ इंडिया ने आज ऐलान किया कि वो कैश रिज़र्व रेशो में 0.5 फ़ीसद कटौती कर रहा है ताकि इस सिस्टम में 32 हज़ार करोड़ रुपय मशग़ूल किए जाएं लेकिन इन इक़दामात से क़र्ज़ दहिंदगान के लिए ई एम आई में फ़ौरी तौर पर कोई

मुंबई, २५ जनवरी (पी टी आई) रिज़र्व बैंक आफ़ इंडिया ने आज ऐलान किया कि वो कैश रिज़र्व रेशो में 0.5 फ़ीसद कटौती कर रहा है ताकि इस सिस्टम में 32 हज़ार करोड़ रुपय मशग़ूल किए जाएं लेकिन इन इक़दामात से क़र्ज़ दहिंदगान के लिए ई एम आई में फ़ौरी तौर पर कोई कमी नहीं होगी। आर बी आई ने शरह सूद में कोई तबदीली नहीं लाई है।

जबकि इस ने इफ़रात-ए-ज़र से पैदावार पर अपने मौक़िफ़ को मज़बूत किया है। पैदावार में गिरावट का सामना था। आर बी आई गवर्नर डी सुब्बा राव ने शुशमाही मालीयाती पालिसी का जायज़ा लेते हुए कहा कि जारीया इफ़रात-ए-ज़र की असास पर पालिसी शरह में कमी की जा रही है।

इमकान ग़ालिब है कि बैंकों की जानिब से क़र्ज़ दहिंदगान को राग़िब करवाने के लिए शरह सूद में कमी की जा सकती है। साल 2011१2 के लिए कमतर शरह पैदावार 7 फ़ीसद का निशाना मुक़र्रर करते हुए रीजर्व बैंक ने कहा कि पालिसी ऐसी बनानी चाहीए कि जिस के ज़रीया पैदावार की कमी को दूर किया जा सके और इफ़रात-ए-ज़र में बेहतरी लाई जा सके। ग़िज़ाई अशीया की क़ीमतों में कमी के बावजूद आर बी आई ने शरह सूद में कमी से गुरेज़ किया है।

आर बी आई की नई कैश रेपो रेशो 5.5 फ़ीसद होगा। स्टाक मार्केट ने इस पालिसी ऐलान पर असबाती रद्द-ए-अमल ज़ाहिर किया है। गवर्नर आर बी आई सुब्बा राव ने ख़बरदार किया कि जब तक हुकूमत अपने मालीयाती ख़सारे पर क़ाबू नहीं पाएगी शरह सूद में कमी मुम्किन नहीं है। पालिसी शरहों को कम करने से मुताल्लिक़ आर बी आई ग़ौर करेगी।

आने वाले बजट में तमाम उमूर को मल्हूज़ रखा जाएगा। आर बी आई के फ़ैसले पर तबसरा करते हुए महिकमा मआशी उमूर के सेक्रेटरी आर गोपालन ने कहा कि सी आर आर में कटौती से रक़ूमात की दस्तयाबी को यक़ीनी बनाया जाएगा और फ़ंड पर आने वाली लागत कम होगी।

ये तमाम चीज़ें पैदावार को बढ़ाने के लिए अच्छी मालूम होती हैं। आर बी आई गवर्नर सुब्बा राव ने कहा कि अगर चीका एतिदाल माहौल के बावजूद इफ़रात-ए-ज़र में कोई कमी नहीं आई है, पैदावार में गिरावट का ख़तरा कम हो गया है।

TOPPOPULARRECENT