Monday , December 18 2017

आलमी मार्च बराए येरूशलम इसराईल ने दाख़िला प्वाईंटस बंद कर दिए

इसराईल ने मक़बूज़ा मग़रिबी किनारा से मिलने वाली तमाम क्रासिंग्स और दाख़िलों को बंद कर दिया है और लेबनान-ओ-शाम से मिलने वाली सरहदात पर इज़ाफ़ी दस्ते मुतय्यन करते हुए पेट्रोलिंग में शिद्दत पैदा कर दी है । इन इंतिज़ामात का मक़सद मुवाफ़िक़ फ

इसराईल ने मक़बूज़ा मग़रिबी किनारा से मिलने वाली तमाम क्रासिंग्स और दाख़िलों को बंद कर दिया है और लेबनान-ओ-शाम से मिलने वाली सरहदात पर इज़ाफ़ी दस्ते मुतय्यन करते हुए पेट्रोलिंग में शिद्दत पैदा कर दी है । इन इंतिज़ामात का मक़सद मुवाफ़िक़ फ़लस्तीन रैलियों को रोकना है जबकि फ़लस्तीनियों की जानिब से आलमी मार्च बराए येरूशलम का एहतेमाम किया गया है ।

ये मार्च आलमी यौम ज़मीन के मौक़ा पर किया जा रहा है । फ़लस्तीनी कारकुनों ने इसराईली अरब अक़लियत की जानिब से भी इस मौक़ा पर मुज़ाहिरों की अपील की है और इन का कहना है कि इसराईल की नौ आबादियात से मुताल्लिक़ पॉलीसी के ख़िलाफ़ मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर मुज़ाहिरे किए जाएंगे ।

इसराईली ओहदेदारों ने कहा कि वो चाहते हैं कि गुज़शता साल मई में पैदा हुए तशद्दुद का इआदा रोकने के मक़सद से इस तरह के इंतेज़ामात किए जा रहे हैं। गुज़शता साल मई के महीने में लेबनान और शाम की जानिब से इसराईली सरहदात की सिम्त बढ़ने वाले हज़ारों अफ़राद के हुजूम पर इसराईली फ़ौज की जानिब से फायरिंग कर दी गई थी जिस के नतीजा में कई अफ़राद हलाक हो गए थे ।

इसराईल के वज़ीर पुलीस अहरनोच ने फ़ौजी रेडियो से कहा कि सारे मुल्क में अफ़्वाज को मुतय्यन कर दिया गया है और वो सख़्त चौकसी बरत रही हैं। फ़ौज की जानिब से ऐलान किया गया है कि आज निस्फ़ शब तक मग़रिबी किनारा की क्रासिंग्स बंद रहेंगी ।

फ़लस्तीनी आर्गेनाईज़र्स का कहना है कि वो चाहते हैं कि सीहोनी ममलकत की पालिसीयों और इसके इक़दामात के ख़िलाफ़ पुरअमन रैली एहतेमाम करें। यौम ज़मीन का इनइक़ाद 1976 में एहतिजाजी मुज़ाहरा करने वाले 6 अरबों को गोली मार कर हलाक कर दिए जाने के ख़िलाफ़ किया जाता है ।

एक इसराईली ओहदेदार ने रॉयटर्स को बताया कि शाम के साथ गोलान जंग बंदी की हदूद को भी बंद कर दिया गया है और वहां ना सिर्फ नई बाढ़ लगा दी गई है बल्कि ज़मीनी सुरंगें भी नसब कर दी गई हैं। इस ओहदेदार के बमूजब यहां गुज़शता साल की तरह के तशद्दुद का इम्कान नहीं है ।

फ़ौज ने कहा कि अक़वाम-ए-मुत्तहिदा अमन फ़ौज ने भी गुज़शता हफ़्ता इसराईल की लेबनान से मिलने वाली सरहद का दौरा किया है और वहां इसराईली इंतेज़ामात का जायज़ा लिया है । इलावा अज़ीं यरूशलम में पुलिस ने मस्जिद ए अक़्सा में 40 साल से कम उम्र के अफ़राद को नमाज़ जुमा अदा करने से रोक दिया है । पुलिस के तर्जुमान मुक्की रो सिन्फ़े लड ने ये बात बताई ।

TOPPOPULARRECENT