Monday , December 11 2017

आशिक के साथ पकड़ा, तो बेटी को जिंदा जलाया

डिवीज़नल हेडक्वार्टर वाक़ेय मुरली मोहल्ला में एक मां ने अपने बहनोई व बेटे के साथ मिल कर अपनी बेटी को जला कर मार डाला। शादी शुदा बेटी को वालिदा ने उसके आशिक के साथ पकड़ा था। कत्ल के बाद पास के ही एक खेत में लाश को छिपा दिया। हालांकि माम

डिवीज़नल हेडक्वार्टर वाक़ेय मुरली मोहल्ला में एक मां ने अपने बहनोई व बेटे के साथ मिल कर अपनी बेटी को जला कर मार डाला। शादी शुदा बेटी को वालिदा ने उसके आशिक के साथ पकड़ा था। कत्ल के बाद पास के ही एक खेत में लाश को छिपा दिया। हालांकि मामले का जैसे ही खुलासा हुआ, तो पुलिस ने मुल्ज़िम वालिदा को हिरासत में ले लिया। पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल करते हुए मुल्ज़िम वालिदा ने इस जुर्म में शामिल अपने बहनोई और बेटे के बारे में भी जानकारी दी। हालांकि दोनों अब तक फरार हैं।

इत्तिला के मुताबिक मुरली मोहल्ला के रहने वाले हीरालाल मुखिया की 20 साला बेटी का इश्क़ गांव के ही एक नौजवान से चल रहा था। इसकी जानकारी खातून के घर वालों को भी थी। छह माह पहले घर वालों ने लड़की की शादी गमैलडीह के रहने वाले एक अधेड़ उम्र के सख्स से करवा दी। शादी के बाद खातून अकसर बीमारी का बहाना कर सुसराल वालों को परेशान करती रहती थी। कुछ दिन पहले सुसराल वालों ने तंग होकर खातून को उसके मायके पहुंचा दिया।

मायके आने के बाद उसने अपने पुराने आशिक से दुबारा मिलने-जुलने लगी थी। वाकिया की रात बुध को खातून को उसके आशिक के साथ उसकी वालिदा ने देख लिया। इससे गुस्साये उसकी वालिदा ने घर में मौजूद अपने बहनोई और बेटे की मदद से पिटाई शुरू कर दी। इसी दौरान लड़की का आशिक किसी तरह भागने में कामयाब रहा। अहले खाना ने पहले तो पिटाई की फिर केरोसिन छिड़क कर जिंदा जला दिया। इसके बाद मुल्जिमान ने खातून की लाश को पास के ही एक खेत में ले जा कर ईख के पत्तों से दबा कर रख दिया। सुबह जब खातून की वालिदा ने लाश को ठिकाने लगाने के लिए खेत मालिक हरेराम सिंह से मदद मांगी। हरेराम सिंह ने मामले की जानकारी फौरन पुलिस को दी। थाना इंचार्ज आरसी उपाध्याय फौरन खेत पर पहुंचकर लड़की के लाश को अपने कब्जे में लिया और मुल्ज़िम वालिदा को गिरफ्तार कर लिया।

TOPPOPULARRECENT