Wednesday , September 19 2018

आसामी शहरीयों को फ़िक्रमंद होने की ज़रूरत नहीं

वज़ीर-ए-दाख़िला सबीता इंदिरा रेड्डी ने आज पुलिस के आला (उच्च) ओहदेदारों (अधिकारीयों) के साथ एक जायज़ा इजलास (मीटिंग) मुनाक़िद (अयोजित) किया जिस में शुमाल (उत्तरी ) मशरिक़ी (पूर्वी ) रियास्तों से ताल्लुक़ रखने वाले तलबा और मुलाज़मीन क

वज़ीर-ए-दाख़िला सबीता इंदिरा रेड्डी ने आज पुलिस के आला (उच्च) ओहदेदारों (अधिकारीयों) के साथ एक जायज़ा इजलास (मीटिंग) मुनाक़िद (अयोजित) किया जिस में शुमाल (उत्तरी ) मशरिक़ी (पूर्वी ) रियास्तों से ताल्लुक़ रखने वाले तलबा और मुलाज़मीन को हैदराबाद में तहफ़्फ़ुज़ की फ़राहमी का जायज़ा लिया गया। वज़ीर-ए-दाख़िला ने पुलिस के आला (उच्च) ओहदेदारों (अधिकारीयों) को हिदायत दी कि वो आसाम और दूसरी रियास्तों से ताल्लुक़ रखने वाले अफ़राद के इलाक़ों में चौकसी इख़तियार करें और उन्हें इस बात का यक़ीन दिलाया कि पुलिस उन के तहफ़्फ़ुज़ के लिए तैय्यार है।

उन्हों ने कहा कि अफ़्वाहों के सबब इस तरह की सूरत-ए-हाल पैदा हुई और आसाम से ताल्लुक़ रखने वाले तलबा गै़र ज़रूरी अदम तहफ़्फ़ुज़ का शिकार हुए हैं। उन्हों ने कहा कि आसाम के शहरीयों को अपने तहफ़्फ़ुज़ के बारे में फ़िक्रमंद होने की ज़रूरत नहीं है। हैदराबाद में सूरत-ए-हाल पुरअमन है और हुकूमत किसी भी सूरत-ए-हाल से निमटने के लिए तैय्यार है। वज़ीर-ए-दाख़िला ने अख़बारी नुमाइंदों को बताया कि जो लोग हैदराबाद छोड़कर चले गए, उन से अपील की जा रही है कि वो वापिस आकर अपनी डयूटी अंजाम दें। उन्हों ने वाज़िह किया कि हैदराबाद में इस तरह की कोई सूरत-ए-हाल नहीं है और हुकूमत मुकम्मल तहफ़्फ़ुज़ फ़राहम करेगी।

वज़ीर-ए-दाख़िला ने आई टी कंपनीयों के नुमाइंदों से भी मुलाक़ात की और उन के पास बरसर ख़िदमत आसाम से ताल्लुक़ रखने वाले नौजवानों को तहफ़्फ़ुज़ फ़राहम करने का तैक़ुन दिया। वाज़िह रहे कि आसाम से ताल्लुक़ रखने वाले दो वुज़रा कल हैदराबाद पहूंचे और उन इलाक़ों का दौरा किया जहां आसामी बड़ी तादाद में बस्ते हैं। उन्हों ने रियास्ती वज़ीर-ए-दाख़िला के साथ आसामी अवाम से मुलाक़ात की और उन्हें यक़ीन दिलाया कि रियास्ती हुकूमत उन्हें तहफ़्फ़ुज़ फ़राहम करेगी लिहाज़ा उन्हें ख़ौफ़ज़दा होने की कोई ज़रूरत नहीं।

TOPPOPULARRECENT