Sunday , September 23 2018

आसाम के मुस्लमान अदम तहफ़्फ़ुज़ का शिकार, बोडो हमला पर तशवीश

हैदराबाद २३ अगस्त (सियासत न्यूज़) कांग्रेस क़ाइद मिस्टर ख़लीक़ अलरहमन ने इद्दिआ किया है कि इन की नुमाइंदगी पर सदर नशीन क़ौमी अक़ल्लीयती कमीशन वजाहत हबीबउल्लाह ने मुसबत रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए आसाम फ़सादाद की ना सिर्फ तहक़ीक़

हैदराबाद २३ अगस्त (सियासत न्यूज़) कांग्रेस क़ाइद मिस्टर ख़लीक़ अलरहमन ने इद्दिआ किया है कि इन की नुमाइंदगी पर सदर नशीन क़ौमी अक़ल्लीयती कमीशन वजाहत हबीबउल्लाह ने मुसबत रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए आसाम फ़सादाद की ना सिर्फ तहक़ीक़ात करवाई, बल्कि मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला शुशील कुमार शनडे के इलावा चीफ़ मिनिस्टर आसाम को मुक्तो बात रवाना करते हुए अपने एहसासात से वाक़िफ़ किराया।

वाज़िह रहे कि 8 अगस्त को कांग्रेस क़ाइद मिस्टर ख़लीक़ अलरहमन ने मुलाक़ात करते हुए आसाम फ़सादाद और मुस्लमानों पर ज़ुलम-ओ-सितम के ख़िलाफ़ एक तहरीरी याददाश्त पेश करते हुए कमीशन की जानिब से इस की तहक़ीक़ात कराने का मुतालिबा किया था, जिस पर सदर नशीन क़ौमी अक़ल्लीयती कमीशन ने मुसबत रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए तहक़ीक़ात के लिए सहि रुकनी कमेटी तशकील दी थी, जिस ने 12 और 13 अगस्त को आसाम के फ़साद से मुतास्सिरा इलाक़ों का दौरा किया और कैम्पों में मौजूद मुतास्सिरीन से मुलाक़ात करते हुए 16 अगस्त को अपनी रिपोर्ट सदर नशीन क़ौमी अक़ल्लीयती कमीशन वजाहत हबीबउल्लाह को पेश करदी। सदर नशीन क़ौमी अक़ल्लीयती कमीशन ने इन से की गई ख़लीक़ अलरहमन की नुमाइंदगी का तज़किरा करते हुए उन के मकतूब के साथ अपना एक मकतूब मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला शुशील कुमार शनडे के इलावा चीफ़ मिनिस्टर आसाम तरूण गोगोई को रवाना किया और अपने एहसासात से वाक़िफ़ किराया था, जिस की एक नक़ल उन्हों ने ख़लीक़ अलरहमन को भी रवाना की।

कांग्रेस क़ाइद ख़लीक़ अलरहमन ने आसाम फ़सादाद में मुस्लमानों के क़तल-ए-आम और उन के ख़िलाफ़ बोडो क़बाइल की मुजरिमाना कार्यवाईयों पर तशवीश का इज़हार किया था, जिस की वजह से चार लाख अफ़राद रीलीफ़ कैंपस मुंतक़िल होने पर मजबूर हो गई। बोडो गै़रक़ानूनी हथियार के ज़रीया मुस्लमानों पर हमले कर रहे हैं, जिस से सैकड़ों मुस्लमान हलाक हुए हैं। हुकूमत मुस्लमानों के तहफ़्फ़ुज़ में नाकाम हो गई है।

मुस्लमानों में अदम तहफ़्फ़ुज़ का एहसास पाया जाता ही। अगर हुकूमत तहफ़्फ़ुज़ फ़राहम करे तो रीलीफ़ कैंपस से मुस्लमान अपने अपने घरों को मुंतक़िल होने के लिए तैय्यार हैं। हुकूमत को चाहीए कि वो गै़रक़ानूनी हथियार रखने वालों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई करी।

TOPPOPULARRECENT