Friday , December 15 2017

आसाम , गुजरात , यूपी के देही मुसलमान सब से ज़्यादा गरीब

हैदराबाद 19 फ़बरोरी :अक़वाम-ए-मुत्तहिदा ने इस तास्सुर का इज़हार किया है कि आसाम , उत्तरप्रदेश , मग़रिबी बंगाल और गुजरात जैसी रियासतों में मुसलमानों में गरीबी का तनासुब सब से ज़्यादा है ताहम अहम शोबों में हज़ारा तरक़्क़ियाती मक़ासिद की तकम

हैदराबाद 19 फ़बरोरी :अक़वाम-ए-मुत्तहिदा ने इस तास्सुर का इज़हार किया है कि आसाम , उत्तरप्रदेश , मग़रिबी बंगाल और गुजरात जैसी रियासतों में मुसलमानों में गरीबी का तनासुब सब से ज़्यादा है ताहम अहम शोबों में हज़ारा तरक़्क़ियाती मक़ासिद की तकमील के लिए हिन्दुस्तान की तरफ़ से की जानेवाली कोशिशों पर इत्मीनान का इज़हार किया है ।

अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के तरक़्क़ियाती प्रोग्राम की डायरेक्टर केटलेन वेसन ने कहा कि हिन्दुस्तान अपनी गरीबी की शरह ग़ुर्बत को निस्फ़ हिस्सा तक घटाने से मुताल्लिक़ा मिले नम डेवलपमनट ( हज़ारा तरक़्क़ियाती ) मक़ासिद के हुसूल के मौक़िफ़ में है ।

सब के लिए इबतिदाई तालीम और तालीम में सनअती मुसावात भी यक़ीनी हैं। ताहम ज़चगी के दौरान ज़च्चा की अम्वात और नोमोलूद बच्चों की शरह अम्वात को कम करने के शोबों में मुक़र्ररा एहदाफ़ का हुसूल मुतवक़्क़े नहीं हैं।

केटलेन वेसन आज यहां क़ौमी इदारा बराए देही तरक़्क़ियाती के ज़ेर-ए‍हतेमाम हिन्दुस्तान में हज़ारा तरक़्क़ियाती एहदाफ़ और देही तर कुयात के अलावा पॉलीसी पर मबनी मसाई के एहदाफ़ और उन के हुसूल के मौज़ू पर एक समेनार से ख़िताब कररही थीं। उन्हों ने मज़ीद कहा कि ये बात काबिल-ए-सिताइश है कि गरीबी में कमी के मक़सद के हुसूल में हिन्दुस्तान ने नुमायां कामयाबी हासिल करली है लेकिन देही इलाक़ों में गरीबी के कई सूरतें हैं।

दर्ज फ़हरिस्त क़बाईल में सब से ज़्यादा यानी 47 फ़ीसद और दर्ज फ़हरिस्त तबक़ात में 42 फ़ीसद गरीबी बताई गई है । वेसन ने कहा कि जहां तक मज़हबी ग्रुपों के एतबार से गरीबी का ताल्लुक़ है । आसाम , उत्तरप्रदेश , मग़रिबी बंगाल और गुजरात में मुसलमानों में गरीबी का तनासुब सब से ज़्यादा है ।

देही इलाक़ों में तकरीबन 50 फ़ीसद ज़रई मज़दूर और 40 फ़ीसद दूसरे मज़दूर गरीबी से नीचे की सतह पर ज़िंदगी बसर कररहे हैं । हिन्दुस्तान ने अगरचे गरीबी की शरह में मुनासिब कमी की है लेकिन देही इलाक़ों में ये सूरत-ए-हाल हनूज़ तशवीशनाक है । क़ौमी इदारा बराए देही तरकियात के डायरेक्टर जनरल डाक्टर एम वे राव‌ और इस इदारे के प्रोफेसर डाकर बी चक्रवर्ती भी इस समेनार में मौजूद थे ।

TOPPOPULARRECENT