Thursday , January 18 2018

आसाम में मुस्लिम कश फ़साद, कई रोज़ेदार ज़िंदा जला दिए गए

मग़रिबी आसाम के मज़ीद (ज्यादातर) इलाक़ों में आज नसली तशद्दुद में शिद्दत पैदा हुई जबकि झड़पों और पुलिस फायरिंग में 11 ताज़ा अम्वात (मौतें) पेश आएं, जिस पर मर्कज़ ( केंद्र) को मज़ीद (अतिरिक़्त)1500 पैरा मिलेट्री पर्सोनल को फ़ौरी (शीघ्र) भेजने पर मजबू

मग़रिबी आसाम के मज़ीद (ज्यादातर) इलाक़ों में आज नसली तशद्दुद में शिद्दत पैदा हुई जबकि झड़पों और पुलिस फायरिंग में 11 ताज़ा अम्वात (मौतें) पेश आएं, जिस पर मर्कज़ ( केंद्र) को मज़ीद (अतिरिक़्त)1500 पैरा मिलेट्री पर्सोनल को फ़ौरी (शीघ्र) भेजने पर मजबूर होना पड़ा ताकि इस फ़साद पर क़ाबू पाया जा सके जो अभी तक 32 जानें तलफ़ (नष्ट/हलाक) कर चुका है।

इस सूरत-ए-हाल पर फ़िक्रमंद वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने चीफ मिनिस्टर तरूण गोगोई को फ़ोन किया और उन से कहा कि इस तशद्दुद पर क़ाबू पाने के लिए हर मुम्किना इक़दाम (कार्य) किया जाय जबकि इस ज़िमन में मर्कज़ ( केंद्र) के मुकम्मल तआवुन (मदद) का वायदा किया गया।

यू पी ए चेयर परसन सोनिया गांधी और मर्कज़ी वज़ीर दाख़िला ( गृह मंत्री) पी चिदम़्बरम ने भी चीफ मिनिस्टर से बात की । पी एम ओ तर्जुमान ने कहा कि वज़ीर-ए-आज़म ने गोगोई को सूरत-ए-हाल पर क़ाबू पाने और मुतासरीन ( पीड़ितो) की राहत और बाज़ आबादकारी के लिए हर मुम्किना क़दम उठाने की हिदायत दी है ।

गड़बड़ ज़दा बोडोलैंड इलाक़ाई, नज़म-ओ-नसक़ ( बंदोबस्त) वाले अज़ला ( ज़िलो) में मुस्लिम कश ताज़ा तशद्दुद भड़क उठा जहां बाअज़ ( कुछ) अफ़राद ने राजधानी एक्सप्रेस पर हमला किया। मुख़ालिफ़ ( विरोधी) मुस्लिम फ़सादाद में मरने वालों की तादाद2 हो गई है जबकि आज सुबह राम पुर और छापर कटा इलाक़ों में तशद्दुद में मुलव्वस अफ़राद को मुंतशिर (तितर बितर) करने के लिए पुलिस ने फायरिंग की जिस में 4 अफ़राद हलाक हुए।

इससे शुमाल मशरिक़ी इलाक़ा में पूरी ट्रेन सर्विस मुतास्सिर ( प्रभावित) रही। नामालूम अफ़राद ने गोवाहाटी की राजधानी एक्सप्रेस के कोच्स पर हमला किया गया और संगबारी ( पथराव) की गई। ये वाक़िया ज़िला कोकराझार के गोसी गाँव में पेश आया। हमले की वजह से ट्रेन के चार कोच्स को नुक़्सान पहूँचा।

इस हमले में किसी जानी नुक़्सान की इत्तिला ( सूचना) नहीं है। शुमाल मशरिक़ी रेलवे के ज़राए ने ये बात बताई। ट्रेन को वापस मग़रिबी बंगाल के सरहदी स्टेशन भेज दिया गया। एजेंसीज़ की रिपोर्ट में बताया गया है कि माह मुक़द्दस रमज़ान में बोडो इंतिहा पसंदों ने रोज़ेदारों को ज़िंदा जला दिया है।

मुख़ालिफ़ मुस्लिम फ़सादाद में अब तक 32 अफ़राद हलाक हुए, जिस में ज़्यादा तर मुसलमान हैं। कोकराझार और चरनक अज़ला ( ज़िला) में बोडोलैंड के इस इलाक़ा में फ़िर्कावाराना तशद्दुद (संप्रादायिक दंगे) जारी है। नज़म-ओ-नसक़ ने अश्रार को देखते ही गोली मार देने का हुक्म दिया है।

दोनों अज़ला ( ज़िलो) में ग़ैर मुअय्यना मुद्दत ( अनिश्चित कालीन) के कर्फ़यू में तौसीअ की गई है। चीफ़ मिनिस्टर गोगोई ने अपनी रिहायश गाह पर हंगामी इजलास तलब किया है ताकि दोनों अज़ला में ला ऐंड आर्डर सूरत-ए-हाल का जायज़ा लिया जा सके। उन्होंने रियास्ती पुलिस सरबराह जे एन चौधरी और प्रिंसिपल सेक्रेटरी दाख़िला जी डी त्रिपाठी को इन अज़ला का दौरा करने की हिदायत दी है।

फ़िर्कावाराना फ़सादाद से मुतास्सिर अज़ला ( प्रभावित जिलो) का कल जमाती वफ़द भी आज दौरा कर रहा है। तशद्दुद की वजह से ट्रेन सर्विस भी मुतास्सिर रही। 3 एक्सप्रेस ट्रेनों को इस इलाक़ा से पहले के स्टेशनों पर रोक दिया गया है। इन्सपेक्टर जनरल आफ़ पुलिस बोडोलैंड टेरी टोरील एरिया डिस्ट्रिक्ट एस एन सिंह ने बताया कि हम ने कोकराझार ज़िला में अश्रार को देखते ही गोली मार देने का हुक्म जारी किया है।

रात का कर्फ़यू बरक़रार है। मुसलमान अपने घरों को छोड़कर रीलीफ़ कैंपस में मुक़ीम हैं। अश्रार ने सूरत-ए-हाल का फ़ायदा उठा कर मुसलमानों के ख़ाली मकानात को नज़र-ए-आतिश ( जला) कर दिया है। ऑल मायनारीटी स्टूडेंटस यूनीयन ने पीर ( सोमवार) को ज़िला में 24 घंटों के बंद की अपील की थी।

इस ज़िला में मुसलमानों पर परतशद्दुद हमलों के ख़िलाफ़ एहतिजाज जारी है। पुलिस ने बाअज़ मुक़ामात पर बंद के हामीयों पर फायरिंग भी की है। रीलीफ़ कैम्पों में ज़ाइद अज़ 50,000 मुसलमानों ने पनाह ली है। ज़िला हुक्काम ने बताया कि सब से ज़्यादा मुतास्सिरा ज़िला खोखरा झार में कई मवाज़आत ( गाँव) शदीद मुतास्सिर हैं।

बी जे पी और कांग्रेस के वफ़द के दौरा के बाद सूरत-ए-हाल मज़ीद नाज़ुक हुई। 31 ट्रेनों को रोक दिया गया है। रियास्ती वुज़रा ( राज्य मंत्री) ने ख़ास कर वज़ीर फ़ूड ऐंड सियोल स्पलाईज़ नज़र उल-इस्लाम इस इलाक़ा में कैंप किए हुए हैं। कई अज़ला में लग भग एक लाख अफ़राद बेघर हो चुके हैं और उन की अक्सरियत रीलीफ़ कैंपों में पनाह गज़ीं है।

TOPPOPULARRECENT