Sunday , September 23 2018

आसाम : लखीमपुर में कांग्रेस के लिए सख़्त आज़माईश

आसाम बी जे पी के सरबराह सरब निंदा सोनवाल का दबरोगढ़ से बाहर मुंतक़िल होना भले ही इस नशिस्त से कांग्रेस के पाँच मर्तबा के एम पी पाबन सिंह घटवार के लिए किसी हद तक राहत का सामान हुआ है लेकिन इस से कांग्रेस की रानी नारा के लिए हालात मुश्क

आसाम बी जे पी के सरबराह सरब निंदा सोनवाल का दबरोगढ़ से बाहर मुंतक़िल होना भले ही इस नशिस्त से कांग्रेस के पाँच मर्तबा के एम पी पाबन सिंह घटवार के लिए किसी हद तक राहत का सामान हुआ है लेकिन इस से कांग्रेस की रानी नारा के लिए हालात मुश्किल होगए जिन्हें लखीम पुर में सोनवाल के ख़िलाफ़ चनाव‌ लड़ना है।

सोनवाल जो पहले ए जी पी के साथ थे और 2004 में घटवार को शिकस्त दी थी, 2011में बी जे पी में शामिल हुए और इस मर्तबा अपने हलक़े को दबरोगढ़ से दरयाए ब्रह्मपुत्र के शुमाली किनारे में लखीम पुर को मुंतक़िल करलिया है। ये दोनों हलक़ों में 7 अप्रैल को वोट डाले जाऐंगे। यू पी ए । II की वज़ीर-ए-ममलकत बराए क़बाइली उमूर रानी नारा ने इल्ज़ाम आइद किया था कि उनके रफ़ीक़ मर्कज़ी वज़ीर ने सोनवाल के साथ मुफ़ाहमत करली कि लखीम पुर मुंतक़िल होजाएं ताकि ख़ूद उनकी जीत आसान तर होजाए।

इस इल्ज़ाम की 62 साला घटवार और सोनवाल दोनों ने तरदीद की है। चीफ़ मिनिस्टर तरूण गोगोई के क़रीबी क़ाइदीन में समझी जाने वाली 50 साला रानी नारा एक ही हलक़े से पार्लियामेंट में चौथी मीयाद के लिए कोशां हैं। उन्हें अपने हलक़े के असेम्बली गोशों में पार्टी एम एल एज़ के एक गोशा से खुली बग़ावत का सामना हुआ जबकि बाज़ ने तो उनके लिए मुहिम चलाने से तक इनकार कर दिया।

ज़राए ने कहा कि पार्टी की मर्कज़ी क़ियादत ने बताया गया कि एम एल एज़ को इंतिबाह दिया और इन्हे तमाम पार्टी उम्मीदवारों के लिए मुहिम चलाने की हिदायत दी है। सदर कांग्रेस सोनिया गांधी ने रानी नारा के लिए इंतेख़ाबी मुहिम में हिस्सा लिया, जो इस रियासत की वीमन क्रिकेट टीम की साबिक़ा रुकन भी हैं।

TOPPOPULARRECENT