Wednesday , September 19 2018

आसाम फ़िर्कापरस्ती के तजुर्बा की कांग्रेसी लेबारेटरी

बी जे पी ने आज कांग्रेस पर इल्ज़ाम आइद किया ( आरोप लगाया ) कि इसने कोकराझार से रियासत में तशद्दुद (के फैलाव को रोकने के लिए मुनासिब इक़दामात ( कार्य) ना करते हुए आसाम को अमलन फ़िर्कापरस्ती के तजुर्बा की लेबारेटरी में तब्दील कर दिया है

बी जे पी ने आज कांग्रेस पर इल्ज़ाम आइद किया ( आरोप लगाया ) कि इसने कोकराझार से रियासत में तशद्दुद (के फैलाव को रोकने के लिए मुनासिब इक़दामात ( कार्य) ना करते हुए आसाम को अमलन फ़िर्कापरस्ती के तजुर्बा की लेबारेटरी में तब्दील कर दिया है और इस मसला पर वज़ीर-ए-आज़म से वज़ाहत चाही।

बी जे पी ने जो पहले ही अपनी टीम को आसाम की सूरत-ए-हाल का जायज़ा लेने के लिए भेज चुकी है, इल्ज़ाम लगाया कि तशद्दुद से मुतास्सिरा ( प्रभावित) लोग जो रीलीफ़ कैंपस को आ रहे हैं, उन्हें वापस भेज दिया जा रहा है और उन के लिए गुंजाइश फ़राहम नहीं की जा रही है जबकि आर्मी और पुलिस मुसलसल फैलते हुए तशद्दुद पर क़ाबू पाने के लिए कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

बी जे पी तर्जुमान निर्मला सीता रमन ने कहा कि रियासत में हुक्मरानी नाम की कोई चीज़ नहीं क्योंकि तशद्दुद से मुतास्सिरा ( प्रभावित) इलाक़ों का किसी हुकूमती नुमाइंदा ने दौरा नहीं किया। फ़िर्कावाराना फ़सादाद ( संप्रादायिक दंगो) ज़ाइद अज़ 11 अज़ला में फैल चुके हैं और 80 हज़ार से ज़्यादा लोग अपने घरों से भाग गए हैं। मकानात जला दिए गए। हमारा वज़ीर-ए-आज़म से जो आसाम के नुमाइंदा एम पी हैं, मुतालिबा है कि वो बयान जारी करते हुए सूरत-ए-हाल की वज़ाहत करे और कांग्रेस का फ़िर्कापरस्ती का तजुर्बा फ़ौरी रोका जाना चाहीए ।

TOPPOPULARRECENT