Monday , December 18 2017

आसाराम की दरख़ास्त ज़मानत हाईकोर्ट में खारिज‌

राजस्थान हाईकोर्ट ने ख़ुदसाख़ता मज़हबी रहनुमा आसाराम की दरख़ास्त ज़मानत खारिज‌ करदी। उन्हें अपने आश्रम में एक नाबालिग़ लड़की के जिन्सी इस्तेहसाल के इल्ज़ाम में गिरफ़्तार किया गया था।जस्टिस निर्मल जीत कौर ने हुक्म जारी करते हुए वक

राजस्थान हाईकोर्ट ने ख़ुदसाख़ता मज़हबी रहनुमा आसाराम की दरख़ास्त ज़मानत खारिज‌ करदी। उन्हें अपने आश्रम में एक नाबालिग़ लड़की के जिन्सी इस्तेहसाल के इल्ज़ाम में गिरफ़्तार किया गया था।जस्टिस निर्मल जीत कौर ने हुक्म जारी करते हुए वकील सफ़ाई सीनियर ऐडवोकेट राम जेठमलानी के तमाम इस्तेदलाल खारिज‌ कर दिए जिन्होंने इद्दिआ किया था कि 12 साल से कम उम्र की लड़की की इस्मत रेज़ि की दफ़ा और दीगर दफ़आत के तहत आइद इल्ज़ामात नाक़ाबिल-ए-क़बूल हैं।

उन्होंने मुतास्सिरा के इल्ज़ामात पर भी एतराज़ करते हुए दावे किए कि वो अपनी मर्ज़ी से वालदैन के साथ आश्रम आई थी। जेठमलानी ने कहा था कि आसाराम तवील मुद्दत से जेल में हैं,कमज़ोर और बीमार हैं । वकील ने दलायल पर जवाबी दलायल पेश करते हुए कहा कि फ़र्द-ए-जुर्म की ताईद इल्ज़ामात से भी होती है। इस के इलावा मुक़द्दमे के हालात में कोई तबदीली नहीं आई है।

सरकारी वकील महीपाल बिश्नोई ने अपने दलायल पेश किए। दोनों फ़रीक़ैन के दलायल की समाअत के बाद जस्टिस कौर ने अपना फ़ैसला 3 फ़रव‌री तक महफ़ूज़ कर दिया था। उन्होंने आसाराम की दरख़ास्त ज़मानत खारिज‌ करदी। आसाराम गुज़िशता साल अगस्त से जेल में हैं।

TOPPOPULARRECENT