Thursday , December 14 2017

आसाराम को बेल नहीं, इलाज होगा

सुप्रीमकोर्ट ने आसाराम बापू के सेहत की जांच के लिए मंगल के रोज़ डाक्टरों की एक टीम तश्कील करने की हिदायत दी। आसाराम ने सिर में तेज दर्द की शिकायत की है। आसाराम फिलहाल जेल में ही रहेंगे क्योंकि अदालत ने कहा है कि इस मामले में सभी गवा

सुप्रीमकोर्ट ने आसाराम बापू के सेहत की जांच के लिए मंगल के रोज़ डाक्टरों की एक टीम तश्कील करने की हिदायत दी। आसाराम ने सिर में तेज दर्द की शिकायत की है। आसाराम फिलहाल जेल में ही रहेंगे क्योंकि अदालत ने कहा है कि इस मामले में सभी गवाहों के बयान निचली अदालत में दर्ज होने के बाद ही उनकी जमानत पर गौर किया जाएगा।

72 साला आसाराम जोधपुर वाके अपने आश्रम में 16 साल की एक लड़की के जिंसी इस्तेहसाल के मामले में इस वक्त जेल में बंद हैं। लड़की ने 20 अगस्त, 2013 को आसाराम के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। जस्टिस टीएस ठाकुर की सदारत वाली बेंच ने जोधपुर वाके एसएन मेडिकल कॉलेज के प्रिंसीपल को डाकटरो की एकटीम तश्कील करने के लिए कहा है, जो आसाराम की बीमारी का टेस्ट करेगा और इसके लिए जरूरी इलाज़ का सुझाव देगा।

अदालत ने कहा कि डाक्टर की टीम 23 सितंबर को अपनी रिपोर्ट सौंपेगा जिसके बाद सुनवाई की अगली तारीख तय की जाएगी।

मिडिकल बोर्ड में एक मैक्सोफैसियल सर्जन, न्यूट्रॉन सर्जन और डेंटिस्ट शामिल होंगे। उनकी जमानत की दरखास्त पर अदालत ने कहा कि मुतास्सिरा अदालत में पेश हो चुकी है लेकिन उसके वालिदैन और डाक्टर अभी तक निचली अदालत में पेश नहीं हुए हैं। आसाराम की जमानत के लिए सीनीयर वकील सलमान खुर्शीद ने दलील पेश की जिसका वकील कामिनी जायसवाल ने सख्त एहतिजाज किया।

जायसवाल ने अदालत को बताया कि आसाराम के हामी मसलें पैदा करते हैं और उनकी रिहाई से मसला और पेचीदा हो जाएगी।
अदालत को यह भी बताया गया कि जेल के आफीसर असाराम का इलाज करा रहे हैं, लेकिन वे आयुर्वेदिक तरीके से इलाज़ पर जोर दे रहे हैं।

खुर्शीद ने कहा कि अदालतों के काम नहीं करने के सबब सुनवाई में देरी लग सकती है, इस पर आली अदालत ने कहा कि अगर अदालतें काम नहीं कर रही हैं तो इसका मतलब यह होगा कि सभी ज़ेर ए गौर को जमानत दे दी जाए। इस पर अदालत को बताया गया कि राजस्थान हाई कोर्ट ने मामले की रोजाना सुनवाई का हिदायत दिया है लेकिन आसाराम और दिगर मुल्ज़िम सुनवाई में देरी के इल्ज़ाम लगा रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT