आज़म खान का तंज़- मुसलमान राम मंदिर बनने से रोकना नहीं चाहता, देश का बादशाह एक पहल तो छेड़े

आज़म खान का तंज़- मुसलमान राम मंदिर बनने से रोकना नहीं चाहता, देश का बादशाह एक पहल तो छेड़े
Click for full image

नगर में बस अड्डा निर्माण की मांग को लेकर सपा नेता एवं पूर्व मंत्री मोहम्मद आजम खां ने गुरूवार को धरना दिया। करीब एक घंटा तक आजम खां ने जोशीले भाषण से सपाइयों में जोश भरा। इस दौरान रुक रुककर प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की गई।

तयशुदा कार्यक्रम के तहत गुरूवार को नगर के केमरी तिराहे के निकट सपाईयों का धरना सवेरे करीब दस बजे से शुरू हुआ, जिसमें जिले भर से तमाम नेता जुटे रहे। धरने का उद्देश्य नगर में रोडवेज बस स्टेशन की स्थापना की मांग करने का था। मगर यह मांग और मौजूदा सरकार की बुराईयों का क्रम दोपहर बाद तक चलता रहा। अपराह्न करीब तीन बजे जब पूर्व मंत्री मोहम्मद आजम खां धरनास्थल पर पहुंचे, तो धरने में मौजूद भीड़ के तेवर और तल्ख हो गए। सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। देखते ही देखते धरना विशाल जनसभा में बदल गया। आजम ने बस अड्डे के बारे में जब बात शुरू की तो सियासी पारा और चढ़ता चला गया।

सपाइयों के नगर में बस अड्डे के निर्माण की मांग को लेकर दिए जा रहे धरने के बहाने प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां ने एक साथ भाजपा पर तीन निशाने साधे। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी,मुख्यमंत्री योगी और राज्य मंत्री औलख को खूब आड़े हाथों लिया। इसके साथ ही राम मंदिर बनवाने जैसी कई बातें कहकर खूब सियासी तीर चलाए।

मुसलमान राम मंदिर बनने से रोकना नहीं चाहता: आजम

पूर्व मंत्री मोहम्मद आजम खां ने राम मंदिर निर्माण का जिक्र छेड़ते हुए सियासी पारा और चढ़ाने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि मुसलमान राम मंदिर बनने से रोकना नहीं चाहता, देश का बादशाह एक पहल तो छेड़े।

आजम खां ने कहा कि इस सरकार में अल्पसंख्यक सुरक्षित नहीं हैं। कहा कि देश में मुसलमानों को वोट देने का अधिकार छीन लिया जाए। ताकि भाजपा अपने मंसूबे को पूरा कर सकें। आखिर कब तक देश का मुसलमान जिंदा रहने की फरियाद करता रहेगा। कब तक गुजरात और मुजफ्फरनगर झेलते रहेंगे। मुसलमान मरना नहीं चाहते, तुम्हारी सरकार तुम्हें मुबारक। तंज की भाषा में कहा कि मुसलमान राम मंदिर बनने से रोकना नही चाहते, मगर देश का बादशाह उसे बनाने की कोशिश तो करें एक पहल तो छेड़े। सरकार के बड़े मंत्री धमका रहे हैं। कोर्ट का आदेश न पहले मान्य था,न अब मानने की सूरत दिखा रहे हैं, इसलिए जोर देकर कहा अब मंदिर बनाने में डर कैसा। जब मस्जिद तोड़ी थी, तब किस मुसलमान ने रोका था।

डीएम से लेकर औलख तक को लिया निशाने पर
आजम ने राज्यमंत्री बलदेव औलख पर एक के बाद एक कई अमर्यादित टिप्पणी की। बोले-प्रधानी जैसा मामूली चुनाव नहीं जीतने वाला आज कैसे मंत्री बना बैठा है। उन्होंने एक बार फिर बिलासुरी ठर्रे का जिक्र छेड़ा और इसके बाद जिले के आला अफसर पर व्यक्तिगत टिप्पणी की।

मैं नहीं मानता धारा-144
आजम खां ने प्रशासन को खुली चुनौती देते हुए कहा कि जिले में लगी धारा-144 को मैं नहीं मानता। यह अंग्रेजी हुकूमत की धारा है, इसे खत्म होना चाहिए। आजम यहीं नहीं रुके, उन्होंने यहां तक कह कि ‘मैं धारा-144 में धरना देकर उसका खुला उल्लंघन कर रहा हूं, प्रशासन की हिम्मत है, तो गिरफ्तार कर ले मुझे।

Top Stories