Sunday , December 17 2017

इंटरकास्ट शादी करने पर अब दलितों को मिलेंगे ढाई लाख रुपये!

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार ने दलितों के लिए एक नई योजना शुरू की है, जिसमें इंटरकास्ट मैरिज करने पर ढाई लाख रुपए की मदद दी जाएगी। शर्त ये होगी कि दूल्हा या दुल्हन में से कोई एक दलित होना चाहिए।

आपको बता दें कि इसमें पहले केंद्र सरकार ने आय की सीमा का ऐलान किया हुआ था, लेकिन अब सरकार ने उस आय की सीमा को हटा दिया है जो कि सालाना पांच लाख रुपए थी।

सरकार की नई योजना के तहत अगर कोई भी दलित के साथ अंतरजातीय विवाह करता है तो उसे सरकार की तरफ से ढाई लाख रुपए की मदद मुहैया कराई जाएगी।

हालांकि डॉक्टर आंबेडकर स्कीम फॉर सोशल इंटीग्रेशन थ्रू इंटरकास्ट मैरिज नाम की इस योजना की शुरूआत साल 2013 में की गई थी, लेकिन उस समय इस योजना के साथ कुछ शर्तें रखी गई थी, जिसमें ये भी कंडीशन थी कि जोड़ों की सालाना आय 5 लाख से कम होनी चाहिए।

अब सरकार ने इस सीमा को भी खत्म कर दिया है। 2013 में जिस वक्त इस योजना की शुरूआत की गई थी, उस समय हर साल करीब 500 जोड़ों को इस योजना के तहत प्रोत्साहन राशि देने का लक्ष्य रखा गया था, जो कि पूरा नहीं हो सका है।

इस योजना के जरिये सामाजिक तौर पर उठाए गए बोल्ड स्टेप की सराहना करना और विवाहित जीवन की शुरुआत में सेटल होने के लिए सक्षम बनाना था।

इस योजना में सरकार की शर्तें ये भी थी कि जोड़े की ये पहली शादी होनी चाहिए और हिंदू मैरिज एक्ट के तहत शादी का रजिस्ट्रेशन होना चाहिए और शादी के एक साल के अंदर इस योजना का फायदा उठाने के लिए प्रस्ताव सबमिट किया हुआ हो।

पुरानी योजना में सरकार ने जो नए बदलाव किए हैं उनमें सालाना आय की सीमा को हटाने के अलावा एक शर्त ये रखी है कि दंपत्ति को इस योजना का फायदा उठाने के लिए अपना आधार नंबर बैंक से लिंक कराना होगा।

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने अपने निर्देश में कहा है कि इस स्कीम के लिए आय सीमा को इसलिए भी खत्म किया जा रहा है क्योंकि कई राज्यों में ऐसी स्कीम में कोई आय सीमा नहीं है।

TOPPOPULARRECENT