इंटरनेट की आज़ादी का आलमी दिन

इंटरनेट की आज़ादी का आलमी दिन
जिनेवा 13 मार्च ( एजेंसीज़ ) सरहदों के बगै़र सहाफ़ी तंज़ीम ने कल ( 12 मार्च ) को इंटरनेट की आज़ादी का आलमी दिन मनाया 12 मार्च 2008 को पहली बार ये दिन मनाया गया था तब यूनेस्को की सरपरस्ती में एक इंटरनेट मैराथन हुआ था जिस का मक़सद इंटरनेट तक रस

जिनेवा 13 मार्च ( एजेंसीज़ ) सरहदों के बगै़र सहाफ़ी तंज़ीम ने कल ( 12 मार्च ) को इंटरनेट की आज़ादी का आलमी दिन मनाया 12 मार्च 2008 को पहली बार ये दिन मनाया गया था तब यूनेस्को की सरपरस्ती में एक इंटरनेट मैराथन हुआ था जिस का मक़सद इंटरनेट तक रसाई के मसअला की जानिब दुनिया की तवज्जा मबज़ूल कराना था।

दुनिया भर में इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले अफ़राद की तादाद दो अरब तीस करोड़ के क़रीब है। गुज़िश्ता साल तंज़ीम ने एक रिपोर्ट पेश की जिस में 12 ममालिक को, जहां इंटरनेट तक रसाई को महिदूद किया जाता है, इंटरनेट के दुश्मन क़रार दिया गया।
इन ममालिक में बिलख़ुसूस चीन, ईरान वो चंद अरब ममालिक शामिल हैं।

Top Stories