डॉक्टर ने पहले ‘मरीज’ से की शादी, फिर विदेश में की हत्या, फेसबुक और व्हाट्सएप पर रखा ‘जिंदा’

डॉक्टर ने पहले ‘मरीज’ से की शादी, फिर विदेश में की हत्या, फेसबुक और व्हाट्सएप पर रखा ‘जिंदा’

अस्पताल गई युवती का जिस डॉक्टर ने इलाज किया, उसे उसी से प्यार हो गया. डॉक्टर ने उससे लव मैरिज की. युवती पत्नी बन सात साल तक डॉक्टर के साथ रही, लेकिन फिर लड़ाई-झगड़े के बीच नौबत ये हो गई कि पत्नी ने अपने डॉक्टर पति के खिलाफ रेप का मुकदमा दर्ज करा दिया. उसने नेपाल में रहने वाले एक शख्स से डॉक्टर को बिना तलाक दिए शादी कर ली. दूसरा पति भारत आया. और पहला पति यानी डॉक्टर पति ने उसी पत्नी से मिला. शराब पिलाई और नेपाल की ऊंची पहाड़ी से धक्का मार हत्या कर दी. और वापस भारत आकर उसका फेसबुक अकाउंट और व्हाट्स एप चलाता रहा, ताकि लोगों को लगे कि वह ज़िंदा है. और 7 माह तक ऐसा करने में वह कामयाब भी हो गया. डॉक्टर पति की इस साजिश का जब पता चला तो पुलिस और महिला के परिजनों व दूसरे पति के भी होश उड़ गए.

गोरखपुर की है उलझी हुई वारदात और प्रेम कहानी
ये उलझी हुई प्यार और वारदात की कहानी है गोरखपुर की, जिसके तार नेपाल तक से जुड़े हुए हैं. शहर के एक डॉक्टर को उसकी पत्नी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. डॉक्टर के साथ दो अन्य लोग भी गिरफ्तार किये गये. डॉक्टर ने पत्नी के रिश्तेदारों को गुमराह करने के लिए उसका सोशल मीडिया अकॉउंट महीनों सक्रिय रखा. उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स के महानिरीक्षक अमिताभ यश ने बताया कि एसटीएफ ने राजेश्वरी श्रीवास्तव की हत्या के सिलसिले में पिछले सप्ताह डॉ. डीपी सिंह और उसके दो साथियों प्रमोद कुमार सिंह एवं देशदीपक को गिरफ्तार किया.

ऐसे शुरू हुई थी लव स्टोरी
दरअसल, गोरखपुर की ही रहने वाली राजेश्वरी 2011 में अपने पिता के साथ डॉ. डीपी सिंह के क्लीनिक में इलाज के लिए गई थी. राजेश्वरी पहली बार यहीं ही डॉक्टर के संपर्क में आई. इसके बाद डॉक्टर का अपनी इस मरीज से अफेयर हो गया. दोनों ने उसी वर्ष गोंडा में विवाह कर लिया, लेकिन कुछ समय बाद ही दोनों के बीच झगडे़ होने लगे. बात यहां तक पहुंची कि राजेश्वरी ने गोरखपुर के कैंट थाने में डॉक्टर पति के खिलाफ रेप का मामला भी दर्ज कराया. सात साल तक साथ रहने के बाद फरवरी, 2018 में उसने डॉक्टर से अलग होते हुए बिहार के गया ज़िले के रहने वाले मनीष सिन्हा से शादी कर ली. मनीष सिन्हा शादी के बाद नेपाल रहने चला गया. वह राजेश्वरी को भी साथ ले गया.

दूसरा पति भारत आया, हत्या के लिए दूसरा पति पहुंच गया नेपाल
जून, 2018 में मनीष भारत वापस आया. और राजेश्वरी को नेपाल में ही अकेला छोड़ आया. इसी बीच राजेश्वरी का पहला पति डॉक्टर डीपी सिंह नेपाल पहुँच गया. वह दो लोगों के साथ पहुंचा. वह राजेश्वरी से मिला. उसने उसे शराब पिलाई. आरोप है कि शराब के साथ उसने राजेश्वरी को नशीली गोलियां भी दीं और नेपाल की ऊंची पहाड़ी से धक्का दे दिया. इधर काम के सिलसिले में मनीष भारत ही रहा. डॉक्टर राजेश्वरी को मारने के बाद वापस आ गया. राजेश्वरी की हत्या का किसी को पता न चले, इसके लिए उसने राजेश्वरी को फेसबुक अकाउंट और व्हाट्स एप चालू रखा. पुलिस के अनुसार वह लगातार सोशल मीडिया पर राजेश्वरी के रूप में एक्टिव रहा. राजेश्वरी के दूसरे पति से भी व्हाट्स एप से बात करता रहा, लेकिन लगातार घंटी जाने के बाद भी फ़ोन नहीं उठ रहा था. कुछ दिन पहले व्हाट्स एप बंद हो गया.

 

राजेश्वरी का फेसबुक अकाउंट, व्हाट्स एप सात माह तक रखा चालू
इसके बाद उसके भाई अमर प्रकाश श्रीवास्तव ने शाहपुर थाने में उसके लापता होने या अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करायी थी. दूसरे पति मनीष पर पुलिस ने पहले शक किया था, लेकिन मनीष ने अपनी पत्नी की हत्या नहीं की थी. पुलिस के सामने पूछताछ के दौरान पहले पति डॉक्टर और उसके दोनों साथियों ने कबूल किया कि उन्होंने ही नेपाल में राजेश्वरी की हत्या को अंजाम दिया. और उसे सोशल मीडिया पर जिंदा रखे रहा. उसने राजेश्वरी को जून में ही शराब और नशे की दवाईयां देकर नेपाल की पोखरा की पहाड़ी से धकेल दिया था. नेपाल पुलिस ने उसका शव बरामद कर पोस्टमार्टम भी कराया था, लेकिन इसका पता भारत में नहीं चल पाया था. आईजी अमिताभ यश ने बताया कि आरोपी ने हत्या के सात महीने बाद तक पत्नी का सोशल मीडिया एकाउण्ट सक्रिय रखा और उसे लगातार अपडेट करता रहा.

Top Stories