बहन के बलात्कारी से बदलना लेने के लिए पंहुचा तिहाड़ जेल, फिर आरोपी को उतारा मौत के घाट

बहन के बलात्कारी से बदलना लेने के लिए पंहुचा तिहाड़ जेल, फिर आरोपी को उतारा मौत के घाट

दिल्ली (Delhi) के एक शख्स ने अपनी बहन के बलात्कारी को उसके अंजाम तक पहुंचाने के लिए कत्ल की ऐसी साजिश तैयार की, जिसका क्लाइमेक्स सात साल बाद तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में आरोपी के कत्ल से हुआ. कत्ल की ये खौफनाक साजिश किसी फिल्मी स्क्रिप्ट से कम नहीं है.

दरअसल, साल 2014 में दिल्ली के आंबेडकर नगर इलाके में रहने वाले जाकिर की नाबालिग बहन के साथ मेहताब नाम के शख्स ने रेप किया था. जिसके बाद उस मासूम ने खुदकुशी कर ली थी. इस वारदात ने जाकिर को अंदर तक तोड़कर रख दिया था. जाकिर हर हाल में अपनी बहन के रेप का बदला लेना चाहता था, लेकिन आरोपी रेप के मुकदमे में तिहाड़ जेल जा चुका था और जाकिर की पहुंच से बाहर निकल गया था

इसके बाद जाकिर ने साल 2014 में मेहताब के कत्ल की जो स्क्रिप्ट लिखनी शुरू की उसका क्लाइमेक्स 7 साल बाद तिहाड़ जेल में पूरा हुआ. जाकिर ने मेहताब का जेल में ही कत्ल कर दिया.

जाकिर साल 2018 में कत्ल के आरोप में तिहाड़ जेल गया लेकिन मेहताब तिहाड़ की दूसरी जेल में बंद था. लिहाजा, मेहताब तके पहुंचने के लिए जाकिर ने एक प्लान तैयार किया. वो अपने साथियों के साथ बिना वजह झगड़ा करने लगा. रोज-रोज के झगड़े तो देखते हुए तिहाड़ प्रशासन ने कुछ दिन पहले जाकिर को जेल नंबर 8 यानी उसकी जगह शिफ्ट कर दिया जहां मेहताब बंद था.

29 जून की सुबह जाकिर ने जेल में लोहे की छड़ को पैना कर बनाये गए चाकू से मेहताब पर हमला कर उसे बुरी तरह घायल कर दिया, जिसके बाद डीडीयू अस्पताल में मेहताब ने दम तोड़ दिया. फिलहाल, पुलिस ने जाकिर के खिलाफ कत्ल का मुकदमा दर्ज कर लिया है.

Top Stories