Friday , January 19 2018

इंतिख़ाबात के बाद वाई ऐस आर कांग्रेस का कांग्रेस में इंज़िमाम

हैदराबाद 13 मार्च ( सियासत न्यूज़ ) वाई ऐस जगन मोहन रेड्डी भी चिरंजीवी की तरह अपनी जमात को इंतिख़ाबात के बाद कांग्रेस में ज़म करदेंगे ।

हैदराबाद 13 मार्च ( सियासत न्यूज़ ) वाई ऐस जगन मोहन रेड्डी भी चिरंजीवी की तरह अपनी जमात को इंतिख़ाबात के बाद कांग्रेस में ज़म करदेंगे ।

सदर तेलगुदेशम‌ मिस्टर एन चंद्रा बाबू नायडू ने आज अपनी पद यात्रा वस्तना मी कोसम के दौरान अवाम से ख़िताब करते हुए ये बात कही । उन्हों ने बताया कि तेलगुदेशम‌ पार्टी इब्तिदा-ए-से ये कहती आरही थी कि वाई ईसार कांग्रेस भी प्रजा राज्यम की तरह कांग्रेस की ही पैदा करदा है । लेकिन अब कारगुज़ार सदर वाई ऐस आर कांग्रेस ने अपनी सयासी ना अहलीयत की बिना पर इस राज़ का अफ़शा-ए-कर दिया है ।

मिस्टर नायडू ने बताया कि मिसिज़ वजया लक्ष्मी ने जो इंटरव्यू के दौरान कहा वो कोई दानिस्ता बयान नहीं बल्कि नादानिस्तगी में मंसूबा का अफ़शा-ए-है । उन्हों ने बताया कि 2009 इंतिख़ाबात से क़बल भी कांग्रेस ने प्रजा राज्यम को मैदान में लाते हुए मुख़ालिफ़ हुकूमत वोट की तक़सीम का खेल खेला था और दुबारा वही करने जा रही है ।

सदर तेलगुदेशम‌ ने कहा कि रियासत में अवाम की इंतिहाई अबतर हालत में अवाम को मुख़ालिफ़ हुकूमत मुत्तहिद होने से रोकने की कोशिश के तौर पर बदउनवानीयों-ओ-बे क़ाईदगियों की दौलत का इस्तिमाल किया जा रहा है । मिस्टर एन चंद्रा बाबू नायडू ने बताया कि सिर्फ़ तेलगुदेशम‌ पार्टी कांग्रेस के नज़रियात से इख़तिलाफ़ करते हुए कांग्रेस की बदउनवानीयों-ओ-बे क़ाईदगियों के ख़िलाफ़ जद्द-ओ-जहद करसकती है ।

उन्हों ने बताया कि तेलगुदेशम‌ रियासत में मुतबादिल बनेगी जबकि कोई और सयासी जमात कांग्रेस के मुतबादिल के तौर पर नहीं उभर सकी । मिस्टर नायडू ने बताया कि प्रजा राज्यम ने अवाम को समाजी इंसाफ़ और मुसावात जैसे ख़ाब दम और इंतिख़ाबात के बाद अवाम के एतिमाद का सौदा किया ।

जबकि तेलगुदेशम गुज़शता 30 बरसों से कांग्रेस की मुख़ालिफ़ अवाम पालिसीयों के ख़िलाफ़ जद्द-ओ-जहद करते हुए समाजी इंसाफ़-ओ-मुसावात की मिसालें पेश करचुकी है । मिस्टर नायडू ने कहा कि सियासत आंधरा प्रदेश में बेहतर हुक्मरानी की फ़राहमी यक़ीनी बनाए और रियासत की तरक़्क़ी की राह हमवार करने के लिए तेलगुदेशम‌ का इक़तिदार में आना नागुज़ीर है ।

उन्हों ने कहा कि रियासत कांग्रेस दूर-ए-हकूमत में मुख़्तलिफ़ बोहरानों का शिकार बिन चुकी है और उन बोहरानों से निमटने के लिए हुकूमत के पास कोई मंसूबा बंदी नहीं है । हिक्मत-ए-अमली और बेहतर मंसूबा बंद होने के सबब रियासत तबाह हो चुकी है । रियासत का हर तबक़ा मुश्किलात में मुबतला है और हुकूमत से बदज़नी का इज़हार कर रहा है ।

TOPPOPULARRECENT