इंतेख़ाबात का इनइक़ाद तनाव से भरपूर चार ओहदेदारान की मौत

इंतेख़ाबात का इनइक़ाद तनाव से भरपूर चार ओहदेदारान की मौत
इंतेख़ाबात का इनइक़ाद ज़हनी तनाव से भर पूर काम है और इलेक्शन कमीशन के ओहदेदारों पर इसका ग़ैरमामूली दबाव होता है। चुनांचे पाँच रियासतों के हालिया असेंबली इंतेख़ाबात में तीन से चार ओहदेदार महिज़ क़लब पर हमले की वजह से फ़ौत हो गए।

इंतेख़ाबात का इनइक़ाद ज़हनी तनाव से भर पूर काम है और इलेक्शन कमीशन के ओहदेदारों पर इसका ग़ैरमामूली दबाव होता है। चुनांचे पाँच रियासतों के हालिया असेंबली इंतेख़ाबात में तीन से चार ओहदेदार महिज़ क़लब पर हमले की वजह से फ़ौत हो गए।

चीफ इलेक्शन कमिशनर एस वाई कुरैशी ने आज ये बात बताई । आज़ादाना और गैर जांबदाराना इंतेख़ाबात मुनाक़िद कराने पर उन्हें तहनियत पेश करने के मक़सद से ये तक़रीब मुनाक़िद हुई थी । इस मौक़ा पर उन्होंने कहा कि तीन से चार ओहदेदारान , प्रीसाईडिंग ऑफीसर की राय दही के दिन क़लब पर हमला से मौत वाक़्य हुई, इससे ज़हनी तनाव का अंदाज़ा किया जा सकता है ।

उन्होंने बताया कि इलेक्शन कमीशन की टीम में 11 अरकान है और 18 लाख अमला के ज़रीया ये काम अंजाम दिया गया है जहां किसी एक की ग़लती तशद्दुद और मुकर्रर राय दही का सबब बन सकती है।

Top Stories