Sunday , December 17 2017

इंशोरेंस अहाते में इज़ाफे को ई पी एफ़ ओ की मंज़ूरी

नई दिल्ली: वज़ीफे के फ़ंड से मुताल्लिक़ इदारा इम्पलोइज़ प्रावीडेंट फ़ंड आर्गेनाईज़ेशन (ई पी एफ़ ओ) के पैनल‌ बराए वज़ाइफ़-ओ-इंशोरंस स्कीम ने ई डी एल आई स्कीम के तहत अज़म तरीन यक़ीनी रक़म को मौजूदा 3.6 लाख रुपये से बढ़ाकर 5.5 लाख रुपये मुक़र्रर करने की एक तजवीज़ मंज़ूर कर लिया है।

ज़राए ने कहा कि ई पी एफ़ ओ के पैंशन और ई डी एल आई अमलावरी कमेटी ने इम्पलोइज़ डिपाज़िट लिंक्ड इंशोरेंस स्कीम के तहत अपने छः करोड़ अरकान के आज़म तरीन इंशोरंस फ़वाइद को 5.5 लाख रुपये तक बढ़ाने की तजवीज़ मंज़ूर करली है। इस कमेटी ने फ़वाइद के ज़िमन में सारिफ़ीन को रक़म की फ़राहमी यक़ीनी बनाने के लिए दो ज़मरों में तक़सीम किया है।

एक ज़मुरा के तहत 12 माह से कम मुद्दत तक ख़िदमात अंजाम देने वाले और दूसरे ज़मुरा में 12 माह से ज़ाइद अरसे तक ख़िदमात अंजाम देने वाले मुलाज़मीन शामिल किए जाऐंगे। ये तजावीज़ कमेटी की जानिब से मंज़ूरी के बाद ई पी एफ़ ओ के फ़ैसला साज़ इदारा सी बी-टी से रुजू की जाएँगी। मर्कज़ी वज़ीर मेहनत के ज़े क़ियादत सी बी-टी का आइन्दा इजलास 16 सितंबर को मुनाक़िद होगा। सी बी-टी सी से मंज़ूरी के बाद ई डी एल ई स्कीम में तरमीम के लिए आलामिया जारी किया जाएगा|

TOPPOPULARRECENT