इंसानी बुनियादों पर हमले रोकने अक़वामे मुत्तहिदा में रूस की तजवीज़

इंसानी बुनियादों पर हमले रोकने अक़वामे मुत्तहिदा में रूस की तजवीज़
अक़वामे मुत्तहिदा सलामती कौंसिल का इजलास आज रात होने वाला है जिस में रूस की इस तजवीज़ पर ग़ौर किया जाएगा कि यमन पर सऊदी अरब की क़ियादत जो फ़िज़ाई हमले हो रहे हैं उन्हें इंसानी बुनियादों पर इमदाद की फ़राहमी के लिए रोका जाना चाहीए।

अक़वामे मुत्तहिदा सलामती कौंसिल का इजलास आज रात होने वाला है जिस में रूस की इस तजवीज़ पर ग़ौर किया जाएगा कि यमन पर सऊदी अरब की क़ियादत जो फ़िज़ाई हमले हो रहे हैं उन्हें इंसानी बुनियादों पर इमदाद की फ़राहमी के लिए रोका जाना चाहीए।

रूस ने तजवीज़ पेश की है कि 15 रुक्नी सलामती कौंसिल का इजलास तलब किया जाए ताकि यमन में हो रही लड़ाई में आम शहरियों की हलाकत के मसला पर तबादले ख़्याल किया जा सके।

अक़वामे मुत्तहिदा के इमदादी प्रोग्राम के सरब्राह वलेरी आमोस ने कहा कि उन्हें यमन में जारी घमसान की लड़ाई में आम शहरियों के मुतास्सिर होने पर सख़्त तशवीश है। उन्हों ने कहा कि इमदादी एजेंसियों का कहना है कि यहां दो हफ़्तों की लड़ाई में कम अज़ कम 519 अफ़राद हलाक हो गए हैं और 1700 से ज़्यादा ज़ख़्मी भी हैं।

अक़वामे मुत्तहिदा की चिल्ड्रंस एजेंसी ने जारीया हफ़्ते कहा कि इस लड़ाई में गुज़िश्ता एक हफ़्ते के दौरान कम अज़ कम 62 बच्चे भी हलाक हुए हैं और 30 ज़ख़्मी हैं। एजेंसी का कहना है कि इन में कुछ बच्चों को ज़बरदस्ती फ़ौज में भी भर्ती किया जा रहा है।

उन्हों ने कहा कि अदवियात का ज़ख़ीरा ख़त्म हो गया है और दवाख़ानों में अब बढ़ते हुए मुतासरीन की तादाद से निमटना आसान नहीं होगा।

Top Stories