Friday , December 15 2017

इंसिदाद इस्मतरेज़ि बिल बहस के बाद लोक सभा में मंज़ूर

नई दिल्ली, 20 मार्च (पी टी आई) इंसिदाद इस्मत रेज़ि बिल पर लोक सभा में आज से बहस का आग़ाज़ हो गया, जिस में ख़वातीन के ख़िलाफ़ जराइम के मरतकबीन के लिए सख़्त तरीन सज़ाएं तजवीज़ की गई हैं। इस्मत रेज़ि के जुर्म के इआदा पर ताहयात उम्र क़ैद के इलावा सज़

नई दिल्ली, 20 मार्च (पी टी आई) इंसिदाद इस्मत रेज़ि बिल पर लोक सभा में आज से बहस का आग़ाज़ हो गया, जिस में ख़वातीन के ख़िलाफ़ जराइम के मरतकबीन के लिए सख़्त तरीन सज़ाएं तजवीज़ की गई हैं। इस्मत रेज़ि के जुर्म के इआदा पर ताहयात उम्र क़ैद के इलावा सज़ाए मौत की गुंजाइश भी फ़राहम की गई है। ख़वातीन और लड़कियों से छेड़छाड़, मुसलसल हरासानी और तेज़ाब फेंकने जैसे जराइम के लिए भी सख़्त सज़ाओं का ताय्युन किया गया है।

फ़ौजदारी क़ानून (तरमीमी) बिल 2013 जो 3 फ़रवरी को जारी करदा आर्डीनेंस की जगह लेगी 16 दिसंबर को दिल्ली में एक लड़की की इजतिमाई इस्मतरेज़ि के वाक़िया के तनाज़ुर में तैयार की गई है, जिस को वज़ीर-ए-दाख़िला सुशील कुमार शिंदे ने आज ऐवान में बहस के लिए पेश किया। इस मुसव्वदा क़ानून के ज़रीया हिंदूस्तानी ताज़ीरी क़ानून और फ़ौजदारी क़ानून के ज़ाबता तब्दीली की गुंजाइश फ़राहम की गई है।

नीज़ सुबूत के हिंदूस्तानी क़ानून और जिन्सी जराइम से बच्चों के तहफ़्फ़ुज़ से मुताल्लिक़ क़ानून में भी तरमीम की राह हमवार होगी। इस्मतरेज़ि और इजतिमाई इस्मतरेज़ि को रोकने के सख़्त इक़्दामात पर मबनी मुसव्वदा क़ानून में कहा गया है कि मुजरिम को क़ैद बामुशक़क़्त दी जानी चाहीए जिस की मुद्दत किसी भी तरह 20 साल से कम ना रहे, लेकिन उस को उम्र क़ैद में भी तब्दील किया जा सकता है।

इस के साथ जुर्माना आइद करने की गुंजाइश भी शामिल है। इस्मतरेज़ि के जुर्म के पहले भी मुर्तक़िब पाए जाने वाला सज़ा पाने वाले मुजरिमीन को इस जुर्म के इआदा पर सज़ाए मौत भी दी जा सकती है। मिस्टर शिंदे ने ऐवान में ये बिल पेश करते हुए उसकी मंज़ूरी के लिए तमाम जमातों से तआवुन तलब किया और कहा कि इसके ज़रीया इस बहादुर लड़की को एज़ाज़ दिया जाये जिस को छः अफ़राद ने गुज़शता साल क़ौमी दार-उल-हकूमत में इजतिमाई इस्मतरेज़ि के वहशियाना जुर्म का शिकार बनाया था। लोक सभा में अरकान की मुजव्वज़ा बिल पर गर्मा गर्म बहस के बाद और अपोज़ीशन अरकान की मुजव्वज़ा तमाम तरमीमात की इस में शमूलीयत के बाद मंज़ूर कर लिया गया।

TOPPOPULARRECENT