Tuesday , December 12 2017

इजतिमाई इस्मत रेज़ि मुक़द्दमा ,मुंतक़िल करने की दरख़ास्त समाअत केलिए क़बूल :सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली 21 जनवरी ( पी टी आई )सुप्रीम कोर्ट ने आज 16 दिसम्बर की इजतिमाई इस्मत रेज़ि और क़तल के मुक़द्दमे की समाअत दिल्ली के बाहर किसी मुक़ाम पर मुंतक़िल करने की 6 मुल्ज़िमीन में से एक की दरख़ास्त समाअत केलिए क़बूल करने से इत्तिफ़ाक़ किया । ची

नई दिल्ली 21 जनवरी ( पी टी आई )सुप्रीम कोर्ट ने आज 16 दिसम्बर की इजतिमाई इस्मत रेज़ि और क़तल के मुक़द्दमे की समाअत दिल्ली के बाहर किसी मुक़ाम पर मुंतक़िल करने की 6 मुल्ज़िमीन में से एक की दरख़ास्त समाअत केलिए क़बूल करने से इत्तिफ़ाक़ किया । चीफ़ जस्टिस अल्तमिश कबीर की ज़ेर क़ियादत एक बेंच ने इस दरख़ास्त को कल समाअत में शामिल करलिया जबकि मुल्ज़िम मुकेश के वकील सफ़ाई ने आजलाना समाअत की गुज़ारिश करते हुए कहा था कि आज़ादाना और मुंसिफ़ाना समाअत दिल्ली में मुम्किन नहीं है क्योंकि मुल्ज़िम के ख़िलाफ़ अवामी जज़बात बरअंगेख़्ता हैं ।

मुकेश पर क़तल , इजतिमाई इस्मत रेज़ि और ग़ैर फ़ित्री फे़अल के जराइम का इल्ज़ाम आइद किया गया है । इस ने बाक़ायदा एहतिजाज के पेशे नज़र दरख़ास्त पेश करते हुए कहा था कि पुलिस और अदालती ओहदेदार मुबय्यना तौर पर एहितजाजियों के मुतालिबात के मुताबिक़ अहकाम जारी करने के लिए दबाव में हैं चुनांचे दरख़ास्त की आज़ादाना और मुंसिफ़ाना समाअत नामुमकिन है ।

अपने वकील के ज़रीये पेश करदा दरख़ास्त में इस ने कहा कि जज़बात दिल्ली में हर ख़ानदान की जड़ों तक सराएत कर गए हैं यहां तक कि अदलिया के ओहदेदारों और सरकारी मुलाज़मीन के ख़ानदान तक इस से बचें हुए नहीं हैं । इन हालात में दिल्ली में उसे इंसाफ़ नहीं मिल सकता ।

मुक़द्दमा तेज़ गाम अदालत के सपुर्द कर दिया गया जहां मुक़द्दमे की आज से रोज़ाना समाअत की जाएगी । दरख़ास्त गुज़ार ने कहा था कि अख़बारी इत्तिलाआत और एहितजाजी मुज़ाहिरों और सियासी बयानात और शख़्सी इंटरनैट पर बयानात से जो चीफ़ मिनिस्टर और दीगर काबीनी वुज़रा ने दीए हैं ज़ाहिर होता है कि अदलिया भी दरख़ास्त गुज़ार के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने केलिए दबाव के तहत है ।मुल्ज़िमीन ने मुक़द्दमा मथुरा मुंतक़िल करने की दरख़ास्त की है।

TOPPOPULARRECENT