Saturday , December 16 2017

इटली के सफ़ीर के मुल्क छोड़ने पर इमतिना में मज़ीद तौसीअ

नई दिल्ली, 19 मार्च: (पी टी आई)सुप्रीम कोर्ट ने दो हिंदूस्तानी मल्लाहों की हलाकत पर अदालत में मुक़द्दमा का सामना करने वाले दो इतालवी मैरीन्स के तनाज़ा पर आज नई दिल्ली में मुतय्यन इटली के सफ़ीर Daniele Mancini की वाअदा ख़िलाफ़ी पर सख़्त सरज़निश की

नई दिल्ली, 19 मार्च: (पी टी आई)सुप्रीम कोर्ट ने दो हिंदूस्तानी मल्लाहों की हलाकत पर अदालत में मुक़द्दमा का सामना करने वाले दो इतालवी मैरीन्स के तनाज़ा पर आज नई दिल्ली में मुतय्यन इटली के सफ़ीर Daniele Mancini की वाअदा ख़िलाफ़ी पर सख़्त सरज़निश की और मुल्क छोड़ने पर उन के ख़िलाफ़ आइद इम्तिना में मज़ीद तौसीअ करते हुए कहा कि वो (इतालवी सफ़ीर) सिफ़ारती इस्तिस्ना का दावा भी नहीं कर सकते ।

सुप्रीम कोर्ट बेंच ने अपने इस तास्सुर का इज़हार किया कि आप वाअदा करते हुए इटली तो चले गए लेकिन हम ने कभी ये तवक़्क़ो नहीं की थी और ना ही कभी इस बात का यक़ीन था कि इटली के सफ़ीर इस तरह वाअदा ख़िलाफ़ी भी करेंगे । चीफ़ जस्टिस अल्तमिश की क़ियादत में बेंच ने याद दिलाया कि Daniele Mancini मुल्क छोड़ने पर 14 मार्च को आइद इम्तिना पर मज़ीद तौसीअ के अहकाम जारी किए जाने के बाद सुप्रीम कोर्ट के एक सीनीयर वकील मुकुल रोहतगी ने Daniele Mancini हुकूमत इटली की पैरवी करते हुए अदालत-ए-उज़्मा में रुजू हुए थे और इतालवी सफ़ीर को सिफ़ारती इस्तिस्ना देने के लिए इसरार किया था ।

सुप्रीम कोर्ट ने दो इतालवी मैरीन्स की वापसी का वाअदा करने के बाद वाअदा शिकनी किए जाने पर इतालवी सफ़ीर Daniele Mancini की सख़्त सरज़निश की । अदालत ने कहा कि वाअदा करने के बाद आप ( इतालवी मैरीन्स) इटली चले गए लेकिन हम ने कभी ये तवक़्क़ो नहीं की थी और ना ही कभी ये सोचा था कि इटली के सफ़ीर भी कभी इस किस्म की वाअदा शिकनी करेंगे ।

अदालत-ए-उज़्मा ने Daniele Mancini के मुल्क छोड़ने पर आइद इम्तिना में 2 अप्रैल तक मज़ीद तौसीअ कर दी । जब इस मुक़द्दमा की आइन्दा समाअत होगी । मिस्टर रोहतगी के इस्तिदलाल पर ख़ुद बंच ने सख़्त एतराज़ किया और कहा कि हम इतने भी लाइल्म नहीं है । हम इन ( इतालवी सफ़ीर) का कोई बयान क़ुबूल नहीं करेंगे हमें उन के बयान पर कोई भरोसा नहीं है ।

वो ( हमारे) एतेमाद से महरूम हो गए हैं और एक ऐसा शख़्स जो दरख़ास्त गुज़ार की हैसियत से अदालत से रुजू हुआ है इसके बारे में हम नहीं समझते कि उस को कोई इस्तिस्ना हासिल है । ब्रहम बंच ने कहा कि उन्हें कोई इस्तिस्ना नहीं है आप हमारे अदालती निज़ाम के बारे में क्या समझते हैं ? ।

सुप्रीम कोर्ट ने Daniele Mancini को हुक्म दिया था कि वो उसकी इजाज़त के बगै़र 14 मार्च तक हिंदूस्तान से बाहर सफ़र ना करें । क्योंकि इन ( Mancin) की हुकूमत ने इन दो इतालवी मैरीन्स मस मेला नौ लातो रे और सालवा तौर बैरवा को हिंदूस्तान वापस भेजने से इनकार कर दी है जहां उन के हल्लाफ़ दो हिंदूस्तानी माहीगीरों को हलाक करने से मुताल्लिक़ मुक़द्दमा ज़ेर दौरां है ।

अदालत ने कहा कि इन दोनों मैरीन्स को वापसी के लिए चार हफ़्तों की मोहलत दी गई थी और वापसी के लिए अब भी वक़्त है । अदालत ने कहा कि हम ने इतालवी सफ़ीर के हलफनामा और वाअदा का एहतिराम करते हुए मैरीनस को हक़ राय दही अदा करने केलिए अपने वतन रवाना होने की इजाज़त देते हुए 22 मार्च तक वापसी का हुक्म दिया था ।

TOPPOPULARRECENT