इन्सानों की तरह मधुमक्खियां भी अपने दिमाग में अच्छे और बुरे अनुभव याद रखते हैं : अध्ययन

इन्सानों की तरह मधुमक्खियां भी अपने दिमाग में अच्छे और बुरे अनुभव याद रखते हैं : अध्ययन

शोधकर्ताओं ने पाया है कि मधुमक्खियों में अच्छे और बुरे यादों को बनाए रखती है, शोधकर्ताओं ने पाया कि वे अपने दिमाग में अलग-अलग समूहों में यादों को संग्रहीत किया जैसे हम करते हैं। शोधकर्ताओं ने मधुमक्खी के दिमाग का विश्लेषण करने के बाद उन्हें सकारात्मक या नकारात्मक अनुभवों से अवगत कराया और उन्होंने पाया कि ये यादें तथाकथित ‘मशरूम बॉडीज’ के विभिन्न क्षेत्रों में संग्रहीत हैं, जो कि कीट मस्तिष्क के लिए विशिष्ट न्यूरॉन्स के क्षेत्र हैं।

इन्सानों की तरह मधुमक्खियां भी अपने दिमाग में अच्छे और बुरे अनुभव याद रखते हैं : अध्ययन 1
मधुमक्खियों का मशरूम बॉडी
कशेरुक और अकशेरुकी जो बिना रीढ़ वाले जानवरों हैं और 600 मिलियन से अधिक वर्षों से विकसित हुए हैं। इससे मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र शरीर रचना विज्ञान में दो वंशों को काफी अंतर मिला है – हालांकि, दोनों यादों को अच्छे और बुरे में विभाजित करते हैं। यह प्रक्रिया, जो विशेषज्ञ ‘वैलेंस एन्कोडिंग’ को डब करते हैं, व्यक्तियों को संभावित और संभावित रूप से फायदेमंद लोगों के अलावा नकारात्मक और संभावित हानिकारक स्थितियों को बताने की अनुमति देता है।

कशेरुकियों में – हमारे जैसे मनुष्य – मस्तिष्क के विभिन्न सेलुलर क्षेत्रों में अच्छी और बुरी यादें संग्रहीत होती हैं, यह सुझाव देते हुए कि विभिन्न तंत्रिका सर्किट का उपयोग नकारात्मक लोगों की तुलना में सकारात्मक अनुभवों को याद करने के लिए किया जाता है। उरबाना-शैंपेन में इलिनोइस विश्वविद्यालय के जीवविज्ञानी जीन रॉबिन्सन और सहकर्मियों ने यह पता लगाने के लिए सेट किया कि क्या शहद मधुमक्खियों पर यह लागू होता है, या यदि उनके छोटे दिमाग ने अच्छी और बुरी दोनों यादों के लिए एक ही तंत्रिका सर्किटरी का फिर से उपयोग किया।

प्रोफेसर रॉबिन्सन ने न्यूजवीक को बताया ”हम जानना चाहते थे कि क्या मधुमक्खियां, छोटे मस्तिष्क के साथ, विभिन्न हिस्सों को सामाजिक जानकारी को संसाधित करने के लिए समर्पित करती हैं जो या तो नकारात्मक हों या सकारात्मक” । यह पता लगाने के लिए, शोधकर्ताओं ने सकारात्मक याद दिलाने के लिए 4 दिन पुरानी रानी मधुमक्खी के लार्वा के नर्सिंग के अनुभव को हनीबेस्स से उजागर किया, या नकारात्मक यादें रखने के लिए एक ‘घुसपैठिए’ मधुमक्खी से मुठभेड़ कराया जो उन्हें नष्ट करने के लिए रखा था।

शोधकर्ताओं ने दिमाग को सबसे हाल ही में सक्रिय क्षेत्रों को खोजने के लिए जांच की – उन्हें यह पता लगाने की अनुमति दी कि शहद मधुमक्खियों ने सकारात्मक और नकारात्मक सामाजिक इंटरैक्शन का भंडारण किया था। प्रोफेसर रॉबिन्सन ने न्यूज़वीक को बताया ”हम उन जीनों का इस्तेमाल करते हैं जो मार्करों के रूप में नई उत्तेजनाओं के लिए बहुत तेज़ी से प्रतिक्रिया करते हैं, यह देखने के लिए कि मस्तिष्क के कौन से हिस्से प्रत्येक प्रकार के उत्तेजना के लिए सक्रिय हैं”।

शोधकर्ताओं ने पाया कि, हम मनुष्यों की तरह, अच्छे और बुरे अनुभवों को तथाकथित ‘मशरूम बॉडीज’ के अलग-अलग हिस्सों में संग्रहीत किया गया था – कीटों के दिमाग में युग्मित संरचनाएँ जो ‘केन्योन कोशिकाओं’ नामक न्यूरॉन्स से बनी होती हैं। प्रोफेसर रॉबिन्सन ने हेडवे को बताया ”हमने पाया कि मधुमक्खियां अपने मस्तिष्क के विभिन्न हिस्सों को सामाजिक जानकारी को संसाधित करने के लिए समर्पित करती हैं जो या तो नकारात्मक या सकारात्मक है”। शोधकर्ता निष्कर्ष निकालते हैं और सुझाव देते हैं कि मस्तिष्क में सकारात्मक और नकारात्मक अनुभवों के अलग-अलग भंडारण पशु तंत्रिका तंत्र की एक मौलिक संपत्ति हो सकती है।

अध्ययन का पूरा निष्कर्ष रॉयल सोसाइटी बी की पत्रिका प्रोसीडिंग्स में प्रकाशित हुआ है।

Top Stories