Monday , February 19 2018

इन एस जी के 900 कमांडोज़ को ट्रेनिंग।

नई दिल्ली 15 अक्टूबर एन एस जी ने अपने तक़रीबा 900 कमांडोज़ को इन्सिदाद-ए-दहशत गर्दी ऑपरेशंस का माहिर बनाने तरबियत के लिए रवाना किया है । एन एस जी का असल मक़सद इन्सिदाद-ए-दहशत गर्दी ही है । ये उन एस जी कमांडोज़ अब तक अहम शख्सियतों की सकेव

नई दिल्ली 15 अक्टूबर एन एस जी ने अपने तक़रीबा 900 कमांडोज़ को इन्सिदाद-ए-दहशत गर्दी ऑपरेशंस का माहिर बनाने तरबियत के लिए रवाना किया है । एन एस जी का असल मक़सद इन्सिदाद-ए-दहशत गर्दी ही है । ये उन एस जी कमांडोज़ अब तक अहम शख्सियतों की सकेवरेटी पर मुतय्यन थे ।

कहा गया है कि इन एस जी ने गुज़शता अर्सा के दौरान इन ब्लैक कीट कमांडोज़ को मरहला वार अंदाज़ में अहम शख्सियतों की सकेवरेटी से दस्तबरदार कर लिया है और उन्हें इन्सिदाद-ए-दहशत गर्दी ट्रेनिंग के लिए रवाना किया गया है । एन एस जी के जुमला पाँच ज़मुरा हैं जिन के तहत तीन ज़मरों से उन अफ़राद को अलैहदा कर लिया गया है ।
एन एस जी के एक ओहदेदार ने बताया कि इन एस जी में एक यूनिट को वे आई पी सकेवरेटी के ज़िम्मेदार सबकदोश कर दिया गया है और अब उन्हें इन्सिदाद-ए-दहशत गर्दी निशानों की तरबियत दी जाएगी जिस तरह इस ए जी यूनिट्स को दी जाती है ।

फ़ौज और नियम फ़ौजी दस्ते दोनों ही इस फ़ोर्स के मक़ासिद की तकमील में मदद कर रहे हैं ताकि ना सिर्फ दहश्तगर्दी बल्कि तय्यारों के अग़वा के चैलेंजस से भी निमटने की अहलियत पैदा की जा सके ।एस एस जी चार्टर के बमूजब उस की दो यूनिटों का इन्सिदाद-ए-दहशत गर्दी सलाहियतों से लैस होना ज़रूरी है और यही उस की ज़िम्मा दारीयों में शामिल है ।
कहा गया है कि इन एस जी को तक़रीबा पंद्रह वे वे आई पीज़ और वे आई पीज़ की सकेवरेटी से अलैहदा(अलग) कर दिया गया है जिस के बाद इन कमांडोज़ को इन्सिदाद-ए-दहशत गर्दी तरबियत के लिए रवाना करना मुम्किन (संभव) हो सका है ।

TOPPOPULARRECENT