Monday , December 11 2017

इमरजेंसी हिन्दुस्तान का तारीक तरीन दौर :मोदी

नई दिल्ली: इमरजेंसी के दौर को हिन्दुस्तान की तारीख का तारीक वक़्त क़रार देते हुए वज़ीरे आज़म नरेंद्र मोदी ने आज कांग्रेस पर तन्क़ीद की कि इस ने हिन्दुस्तानी जम्हूरियत को कुचल दिया था। उन्होंने कहा कि 40 साल क़बल इक़्तेदार की हवस में क़ौम

नई दिल्ली: इमरजेंसी के दौर को हिन्दुस्तान की तारीख का तारीक वक़्त क़रार देते हुए वज़ीरे आज़म नरेंद्र मोदी ने आज कांग्रेस पर तन्क़ीद की कि इस ने हिन्दुस्तानी जम्हूरियत को कुचल दिया था। उन्होंने कहा कि 40 साल क़बल इक़्तेदार की हवस में क़ौम को ज़ंजीरों से बांध कर मुल्क को जेल में तब्दील करदिया गया था।

इमरजेंसी की 40 वीं सालाना याद पर मोदी ने उस वक़्त की इंदिरा गांधी ज़ेरे क़ियादत कांग्रेस हुकूमत को तन्क़ीद का निशाना बनाया। मोदी ने कहा कि एक मुतहर्रिक आज़ाद जम्हूरियत तरक़्क़ी के लिए कलीदी अहमियत की हामिल है और जम्हूरी नज़रियात-ओ-इक़दार को मुस्तहकम करने हर मुम्किन इक़दाम किए जाने चाहिऐं।

मोदी ने अपने ट्वीटर में कहा कि हम हिन्दुस्तान के तारीक तरीन दौर के 40 साल पूरे कर रहे हैं। ये इमरजेंसी का वक़्त था जब उस वक़्त की सियासी क़ियादत ने हमारी जम्हूरियत को कुचल दिया था। 25 जून 1975 को इमरजेंसी नाफ़िज़ की गई थी और ये 21 मार्च 1977 तक जारी रही थी।

नरेंद्र मोदी ने कहा कि एक मतहरेक और आज़ाद जम्हूरियत तरक़्क़ी के लिए कलीदी अहमियत की हामिल है। हमें जम्हूरी इक़दार-ओ-उसूलों को मुस्तहकम करने के लिए बहुत कुछ करने की ज़रूरत है। वज़ीरे आज़म ने याद दहानी करवाई कि इंदिरा गांधी की जानिब से मालना इमरजेंसी की मुल्क के लाखों अवाम ने मुख़ालिफ़त की थी।

उन्होंने कहा कि हमें उन लाखों अफ़राद पर फ़ख़र है जिन्होंने इमरजेंसी की मुज़ाहमत की थी और उनकी कोशिशों से मुल्क के जम्हूरी धागा को मुस्तहकम रखा जा सका है। उन्होंने कहा कि जय प्रकाश नारायण की अपील पर लाखों मर्द-ओ-ख़वातीन ने इमरजेंसी के ख़िलाफ़ जद्द-ओ-जहद शुरू की थी।

TOPPOPULARRECENT