Monday , January 22 2018

इमरान ख़ान 80 के दहे के सब से बेहतरीन ऑलराउंडर

न्यूज़ीलैंड के साबिक़ ऑलराउंडर सर रिचर्ड हेडली ने पाकिस्तान के इमरान ख़ान को अपने दौर का सब से बेहतरीन ऑलराउंडर क़रार दिया है।

न्यूज़ीलैंड के साबिक़ ऑलराउंडर सर रिचर्ड हेडली ने पाकिस्तान के इमरान ख़ान को अपने दौर का सब से बेहतरीन ऑलराउंडर क़रार दिया है।

वो 80 के दहे में जो चार ऑल राउंडर्स थे उन में सब से ज़्यादा बासलाहियत इमरान ख़ान थे। सर रिचर्ड हेडली ने उन चारों ऑल राउंडर्स में ख़ुद अपने आप को हिंदुस्तान के कपिल देव को और इंगलैंड के एयान बोथम को शामिल किया है। उन्होंने कहा कि अगर उनसे कहा जाये कि उन चारों ऑल राउंडर्स में सब से बेहतरीन कौन है उसका इंतिख़ाब किया जाय तो वो आन रिकार्ड कह सकते हैं कि इमरान ख़ान सब में बेहतर थे क्योंकि वो बेहतरीन बल्लेबाज़ थे शानदार बोलर थे और टीम को कामयाबी दिलाने वाले कप्तान थे।

उन्होंने कहा कि बहैसियत बल्लेबाज़ वो टाप छः में किसी भी मुक़ाम पर बल्लेबाज़ी करसकते थे। टाप चार में भी खेल सकते थे और हालात के हिसाब से जिस तरह की इनिंगस‌ की ज़रूरत हो उस तरह की इनिंगस‌ खेल सकते थे। बहैसियत बोलर वो विकटें हासिल करने वाले बोलर थे। उन का रिकार्ड ही ज़ाहिर करता है कि वो बेहतरीन बोलर थे।

वो एक करिश्माती शख़्सियत थे। वो पाकिस्तान के लिए एक बेहतरीन और अच्छे कप्तान रहे हैं। उन की बहुत इज़्ज़त-ओ-एहतिराम की जाती थी। ताहम हेडली ने साबिक़ वेस्ट इंडीज़ कैप्टन सर गेरी सोबर्स की भी बहैसियत ऑलराउंडर ज़बरदस्त तारीफ‌ की है। उन्होंने कहा कि रिवायती तौर पर सोबर्स को नंबर एक ऑलराउंडर क़रार दिया जाता है और लोग उन्हें खेलते हुए देखने के लिए मैदान में आते थे।

वो बहुत बेहतरीन बल्लेबाज़ बेहतरीन बोलर और बेहतरीन फीडर भी थे। बहैसियत मजमूई उनके आदाद-ओ-शुमार उसकी ताईद भी करते हैं। सर हेडली ने कपिल देव इमरान ख़ान और बोथम के मुक़ाबले में ख़ुद को अच्छा बोलर क़रार दिया है ताहम एतराफ़ किया कि वो बल्लेबाज़ी में कमज़ोर थे।

उन्होंने कहा कि टेस्ट में उन्होंने कम रंस‌ स्कोर किए हैं। उन की बैटिंग दूसरों के मुक़ाबले में औसत ही थी। हालाँकि उन्होंने कुछ इनिंगस‌ अच्छी खेली हैं लेकिन उनकी बल्लेबाज़ी ग़ैर मुस्तक़िल रही है। वो बल्लेबाज़ी में दूसरों से मुक़ाबला नहीं करेंगे ताहम बहैसियत बोलर वो दूसरों से अच्छे रहे हैं।

चारों ऑल राउंडर्स के माबैन मुसाबक़त के ताल्लुक़ से उन्होंने कहा कि 1980 का दुहे बहुत शानदार रहा है और चारों ऑल राउंडर्स ज़्यादा से ज़्यादा महारत के लिए जद्द-ओ-जहद करते थे। उन्होंने कहा कि वो ख़ुद इमरान ख़ान कपिल देव या बोथम के ख़िलाफ़ आउट होना नहीं चाहते थे और जब बौलिंग करते तो उन तीनों में किसी से को भी आउट करने के ख़ाहिशमंद रहा करते थे। ऐसे में मुसाबक़त बढ़ती जाती थी ।

हेडली ने कहा कि अज़ीम ऑल राउंडरस का दौर तेज़ी के साथ ख़त्म होता जा रहा है और मौजूदा दौर में जैक कालिस बेहतरीन ऑलराउंडर हैं। उन्होंने तमाम तर्ज़ की क्रिकेट से ख़ुद को बहुत अच्छी तरह समझ‌ लिया है। आदाद-ओ-शुमार के मुताबिक़ कालिस क्रिकेट की तारीख़ के सब से अज़ीम ऑलराउंडर हैं।

इस ताल्लुक़ से कोई शक नहीं है ताहम उनका वक़्त भी ख़त्म होता जा रहा है और अब वो बहुत मुहतात होगए हैं। ताहम अभी भी वो यही समझते हैं कि इन ( कालिस ) की तवज्जो टेस्ट क्रिकेट पर ही है। बाल टैमपरिंग के ताल्लुक़ से उन्होंने कहा कि हालाँकि रीवर्स सुइंग एक अच्छा फ़न है खिलाड़ियों को ग़ैर मुंसिफ़ाना कामों में मुलव्वस नहीं रहना चाहिए ताकि गेंद को अपनी मर्ज़ी से चलाया जा सके।

गेंद पर आप थूक या पसीना इस्तिमाल करसकते हैं इससे खेल पर अच्छा असर होता है ताहम गेंद पर आप अपने नाख़ुन या दूसरी चीज़ें इस्तिमाल नहीं करसकते। ताहम अगर आप गेंद को खुरदरी ज़मीन पर फेंकते हैं तो ख़ुद गेंद पर उस का असर होता है इस में कोई ग़लती नहीं है।

उन्होंने माना कि उन्हें रीवर्स सुइंग का उसी दौर में पता चल गया था जब वो खेल रहे थे ताहम वो उस वक़्त उस से वाक़िफ़ नहीं थे। उन्हों ने कहा कि पाकिस्तानी बोलर सरफ़राज़ नवाज़ गेंद के साथ कुछ करते थे ताहम उन्हें बहुत बाद में चल कर ये बात पता चली कि पाकिस्तानियों ने उसी वक़्त रीवर्स सुइंग दरयाफ़त करली थी।

TOPPOPULARRECENT