Sunday , December 17 2017

इमलाक की क़ीमतों में गिरावट , बैंगलौर और मुंबई में भी रीयल स्टेट ठप

हैदराबाद 13 दिसमबर (सियासत न्यूज़) सारी दुनिया जहां मआशी बोहरान के असरात से परेशान हैं, वहीं हैदराबाद में इमलाक की क़ीमतों में गिरावट के इलावा बैंगलौर, मुंबई और अहमदाबाद में रीयल स्टेट कारोबार ठप है। रीयल स्टेट कारोबार के शोबा मे

हैदराबाद 13 दिसमबर (सियासत न्यूज़) सारी दुनिया जहां मआशी बोहरान के असरात से परेशान हैं, वहीं हैदराबाद में इमलाक की क़ीमतों में गिरावट के इलावा बैंगलौर, मुंबई और अहमदाबाद में रीयल स्टेट कारोबार ठप है। रीयल स्टेट कारोबार के शोबा में एहमीयत कीहामिल वैब साईट मकान डाट काम के हालिया मुताला में बताया गया है के हैदराबाद केइलावा दीगर अहम शहरों में भी इमलाक की क़ीमतों में गिरावट रिकार्ड की गई ।

मज़कूरावैब साईट की तफ़सीलात के बमूजब हालिया अर्सा में इमलाक की क़ीमतों में 21.6 फ़ीसदगिरावट दर्ज की गई है। वैब साईट ने इस ज़िमन में माहाना जो मवाद अखटा किया है इस की जसामत 20 हज़ार रखी है, जिस पर निशानात का ताय्युन भी किया गया। मज़कूराआदाद-ओ-शुमार के बमूजिब माह अक्टूबर में इमलाक की गिरावट में जो निशानात दर्ज किए गए वो 1125 रहि जबकि माह जुलाई में ये तादाद 1435 रिकार्ड की गई थी।

दरींअसना इमलाक की क़ीमतों में गिरावट जुज़ वक़्ती हैं क्योंकि गुज़शता 12 माह के दौरान इस में काबिल-ए-ज़िकर नशेब-ओ-फ़राज़ भी देखे गए क्योंकि 2010-में ये नंबर 969 रिकार्ड किया गया था। हालिया दिनों में कई अहम शहरों ने मआशी बोहरान और मुक़ामी हालात के बावजूद तरक़्क़ी की है, लेकिन रीयल स्टेट के कारोबार में कोई हौसला अफ़ज़ा-ए-तरक़्क़ी नहीं हुई है।

मकान डाट काम ने इमलाक की क़ीमतों में गिरावटों के लिए जो नंबरात ताय्युन किए हैं, इस के पेशे नज़र गुज़शता 3 माह के दौरान हैदराबाद के इलावाबैंगलौर, मुंबई, अहमदाबाद, कोलकता, पौने और चेन्नाई जैसे अहम शहरों में भी इमलाककी क़ीमतों में गिरावट रिकार्ड की गई है। मुंबई में गिरावट 5.6 फ़ीसद, बैंगलौर में 7.5फ़ीसद और अहमदाबाद में 2.5 फ़ीसद गिरावट रिकार्ड की गई।

मकान डाट काम के चीफ़ आ प्रीटीइंग ऑफीसर आदित्य वर्मा ने तफ़सीलात बताते हुए कहा कि शहर में रीयल स्टेट के कारोबार को ठप करने में तेलंगाना मसला काफ़ी असरअंदाज़ हुआ है और यहां अगले 6 ता 9 माह के दौरान कोई हौसला अफ़ज़ा-ए-तबदीली का इमकान नहीं। उम्मीद की जा रही है के जुलाई । सितंबर 2012 के बाद ही रीयल स्टेट कारोबार में कुछ हौसला अफ़ज़ा-ए-तबदीलीयां रौनुमा होसकती हैं।

TOPPOPULARRECENT