Monday , February 19 2018

इमाम बुखारी और आजम खान हरामजादे: बीजेपी लीडर

पीएम नरेंद्र मोदी भले ही अपनी वज़ीर साध्वी निरंजन ज्योति के बयान को खारिज चुके हैं, लेकिन बीजेपी के एक बड़े लीडर और साबिक मरकज़ी वज़ीर के नए बयान से एक बार फिर रामज़ादे बनाम हरामज़ादे का मुद्दा गरमा गया है|

पीएम नरेंद्र मोदी भले ही अपनी वज़ीर साध्वी निरंजन ज्योति के बयान को खारिज चुके हैं, लेकिन बीजेपी के एक बड़े लीडर और साबिक मरकज़ी वज़ीर के नए बयान से एक बार फिर रामज़ादे बनाम हरामज़ादे का मुद्दा गरमा गया है|

बीजेपी के बड़े लीडर स्वामी चिन्मयानंद ने साध्वी निरंजन ज्योति के बयान को एक कदम आगे बढ़ाते हुए दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी और अखिलेश सरकार में वज़ीर और कद्दावर मुस्लिम लीडर आजम खाम को ‘हरामज़ादा’ कहा है|

चिन्मयानंद ने बलरामपुर में इतवार के रोज़ कहा कि, “दो दिन पहले मैंने इमाम से पूछा कि वे अपने नाम के साथ बुखारी क्यों लिखते हैं| मैंने जाना कि बलरामपुर में गेंहू और चावल का एक ज़खीरा है जिसे बुखारा कहा जाता है| उसने कहा कि उनके अजदाद बहुत पहले बुखारा से आए थे| हिंदुस्तान में रहते इसकी कई नस्ल गुज़र गई| अब ये इसी ज़मीन का पानी पीते हैं, खाना खाते हैं और यहीं की हवा की सांस लेते हैं| लेकिन आज भी ये सोचते हैं कि उनका ताल्लुक बुखारा से है|”

चिन्मयानंद ने आगे कहा, “इमाम बुखारी ने दस्तारबंदी में नरेंद्र मोदी को दावत नही दिये , लेकिन पाकिस्तान के पीएम नवाज़ शरीफ को दावत दी|”

इंडिया टू-डे वेबसाइट पर लिखा है कि इसके बाद चिन्मयानंद ने भीड़ से कहा, “जब ऐसे हरामजादे मुल्क में रहेंगे तो फिर क्यों नहीं साध्वी उन्हें हरामजादे कहें?” इसके साथ ही भीड़ जय श्रीराम के नारे से गूंज उठा|

आपको बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में चिन्मयानंद रियासती वज़ीर ए दाखिला रहे हैं| चिन्मयानंद यहीं नहीं रुके| इसके साथ ही उन्होंने इसमें आजम खान को भी लपेटे में ले लिया| उन्होंने कहा, “मुल्क में दहशतगर्द की कार्यवाई हो रही है| लेकिन कुछ लोग इससे फिक्रमंद नहीं हैं| मेरे अपोजीशन के लीडर और खासकर मुलायम सिंह से सवाल है| एक औरत ने 17 राजपूत को मार डाला था, उस फूलन देवी को आपना एमपी बनाया| तो फिर उसी जाति की खातून (साध्वी निरंजन ज्योति) से परेशानी क्यों है जो मुल्क को लेकर फिक्रमंद है| अगर वो मोदी को रामजादे कहती है तो जाहिर है कि वो आजम खान को क्या कहना चाहती है|”

आपको बता दें कि चंद दिन पहले मोदी सरकार की वज़ीर साध्वी निरंजन ज्योति ने अपने मुखालिफीन के लिए हरामजादे लफ्ज़ का इस्तेमाल किया था जिसे लेकर उन्होंने बाद में माफी मांग ली थी|

TOPPOPULARRECENT