Sunday , August 19 2018

इराक़ में अमेरिका के कट्टर विरोधी के हाथों में आई सत्ता, मौलवी मुक्तदा अल सद्र बने किंग मेकर!

प्रभावशाली शिया मौलवी मुक्तदा अल सद्र की अगुवाई वाले राजनीतिक गठबंधन ने इराक के राष्ट्रीय संसदीय चुनावों में जीत हासिल की है। शनिवार को आए चुनाव नतीजों में उनके राजनीतिक गठबंधन को सबसे अधिक वोट मिले हैं।

गौरतलब है कि मौलवी शुरुआत से अमेरिका के विरोधी रहे हैं। अमरीका द्वारा सुन्नी तानाशाह सद्दाम हुसैन के मारे जाने के बाद से सद्र के संगठन ने इराक में अपने पैर जमाए थे।

सद्र खुद प्रधान मंत्री नहीं बन सकते हैं क्योंकि वह चुनाव में भाग नहीं ले पाए थे। हालांकि उनके संगठन की जीत से उन्हें सरकार में विशेष अहमियत मिलेगी। उनके संगठन ने 54 संसदीय सीटों पर कब्जा किया। हादी अल-अमिरी की अगुवाई वाली राजनीतिक पार्टी अल-फतेह 47 सीटों पर कब्जे के साथ दूसरे स्थान पर रहा।

मौजूदा प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी का गठबंधन 42 सीटों के साथ तीसरे स्थान पर रहा। दिसंबर में इस्लामिक स्टेट (आईएस) के खिलाफ इराक की विजय के बाद से देश में हुआ यह पहला चुनाव था। इराक में स्थानीय सुरक्षाबलों की मदद के लिए अभी भी लगभग 5,000 अमेरिकी सुरक्षाबल हैं, जो आईएस के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं।

सबसे बड़ी सख्या होने के बावजूद सद्र अकेले प्रधानमंत्री का चुनाव नहीं कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें अन्य पार्टियों से समर्थन लेना होगा। सद्र ने कहा कि इस चुुनाव ने जता दिया है कि जनता अब देश में बदलाव चाहती है।

इसके साथ वह तरक्की के साथ बाहरी दबाव को हटाना चाहती है। गौरतलब है कि इराक में सद्दाम के शासन के बाद आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने कई क्षेत्रों पर कब्जा जमा लिया था।

आईएस की वजह से इराकियों को अपने घर को छोड़कर भागना पड़ा। इसके बाद अमरीका ने इराक सेना से मिलकर कई इराकी क्षेत्रों को आतंकियों के चंगुल से आजाद कराया। तब अमरीकी सेना यहां पर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर मौजूद है।

TOPPOPULARRECENT