Monday , December 18 2017

इराक के बसरा में फंसे गोपालगंज के 10 नौजवान

इराक में जारी तशद्दुद में सूबे के भी सैकड़ों लोग फंसे हैं। फिलहाल वज़ारत खारज़ा इराक में फंसे लोगों की सरकारी तादाद बता पाने में नाकाम है। इराक के बसरा में गोपालगंज के 10 नौजवानों के फंसे होने की इत्तिला मिली है।

इराक में जारी तशद्दुद में सूबे के भी सैकड़ों लोग फंसे हैं। फिलहाल वज़ारत खारज़ा इराक में फंसे लोगों की सरकारी तादाद बता पाने में नाकाम है। इराक के बसरा में गोपालगंज के 10 नौजवानों के फंसे होने की इत्तिला मिली है।

बसरा में सैमसंग कंपनी की लोकल प्रोजेक्ट वेस्ट क्यूरना सेकेंड फेज में काम कर रहे नौजवान ने बुध को गोपालगंज के डीएम कृष्ण मोहन को फैक्स भेज कर मदद की गुहार लगायी है। डीएम ने वज़ारता दाखला को इसकी इत्तिला दे दी है। नौजवानों ने अपना मोबाइल नंबर भी डीएम के पास भेजा है।

साथ ही सैमसंग कंपनी का इ-मेल एड्रेस भी भेजा है। सीवान के भी दो नौजवान वहां फंसे हैं। असांव थानेके ससरांव गांव के रहने वाले चंद्रमोहन सिंह का बेटा संतोष कुमार सिंह और मधुसूदन तिवारी का बेटा विद्याभूषण तिवारी वहां तीन सालों से फीटर का काम करते थे। तकरीबन तीन दिन पहले पहले इराक के नंबर 008521020065 से संतोष कुमार सिंह के घर किसी ने फोन किया कि संतोष और विद्याभूषण की यहां चल रही तशद्दुद में मौत हो गयी। बुध को संतोष के भाई ने बताया कि अब वह नंबर बंद है और राब्ता नहीं हो पा रहा है।

इधर, इराक में फंसे नौजवानों के अहले खाना दहशत में हैं। एक टीवी चैनल से बातचीत में औरंगाबाद जिले के रहने वाले मुस्तफा हाशमी ने कहा है कि बसरा, अल जुबैर में एक हजार इंडियन फंसे हुए हैं। अभी तक तो हम महफूज़ हैं। लेकिन, आगे क्या होगा कुछ पता नहीं। हम अपना मोबाइल भी रिचॉर्ज नहीं करा पा रहे हैं। दाखला महकमा के प्रिंसिपल सेक्रेटरी आमिर सुबहानी ने बताया कि रियासत के इंतेजामिया वज़ारत खारज़ा से मुसलसल राब्ते में हैं। वज़ारत खारज़ा लगातार इराक के हालात के मद्देनजर सरगर्म तौर पर जायजा ले रहा है। इराक पर नजर रखने के लिए वज़ारत खारज़ा में एक कंट्रोल रुम बनाया गया है. उनके सलामती से घर वापसी के लिए कोशिशें तेज कर दी हैं।

TOPPOPULARRECENT