Friday , December 15 2017

इराक में बिहार के 11 नौजवान फंसे

इराक में जारी तशद्दुद जद्दो-जहद की आंच भारत तक पहुंच गई है। दहशतगर्दों ने 40 भारतीयों को अगवा कर लिया है। पहले इसकी खदशा जताई जा रही थी, लेकिन बुध दोपहर बाद वसारत खारज़ा ने भी यरगमाल की तसदीक़ कर दी।

इराक में जारी तशद्दुद जद्दो-जहद की आंच भारत तक पहुंच गई है। दहशतगर्दों ने 40 भारतीयों को अगवा कर लिया है। पहले इसकी खदशा जताई जा रही थी, लेकिन बुध दोपहर बाद वसारत खारज़ा ने भी यरगमाल की तसदीक़ कर दी।

पंजाब के नायब वजीरे आला सुखबीर सिंह बादल ने दावा किया है कि अगवा हुए तमाम लोग पंजाब के हैं। वे इराक की एक कंस्ट्रक्शन कंपनी के लिए काम करते थे। वाकिया इराक के दूसरे सबसे बड़े शहर मोसुल की है। दहशतगर्दों ने गुजिशता मंगल को मोसुल पर कब्जा कर लिया था।

कंपनी या इंतेजामिया के लोग 40 भारतीयों को महफूज़ मुकाम पर ले जा रहे थे। तभी कुर्द दहशतगर्दों ने उन्हें यरगमाल कर लिया। कुछ देर बाद सुन्नी दशतगर्द आ धमके और कुर्दों से तमाम भारतीयों को छीन लिया। उन्हें कहां रखा गया है इसका पता नहीं चला है। दहशतगर्दों की तरफ से कोई मुताल्बा भी नहीं की गई है। इस दरमियान भारत ने भारतीयों को बचाने के लिए खुसुसि अयाची के तौर पर सुरेश रेड्डी को भेजा है।

औरंगाबाद के मुस्तफा कमाल हाशमी भी इराक के बसरा में फंसे हैं। वह कंस्ट्रक्शन कंपनी में सुपरवाइजर थे। गोपालगंज के 10 नौजवान भी बसरा में फंसे हैं। नौशाद, पूर्णचंद्र, इमरान, रिजवान, असगर, रामचंद्र गुप्ता, साकिर, कृष्णमणि, जनकदेव और बलाल ने डीएम को फैक्स भेजकर मदद मांगी है।

सबसे बड़ी रिफायनरी पर कब्जे का जद्दो-जहद, 40 मरे

दहशतगर्दों ने बुध को इराक की सबसे बड़ी तेल रिफाइनरी पर धावा बोल दिया। यह बैजी में है। रिफायनरी के 75 फीसद हिस्से पर कब्जा कर लिया। बाद में आर्मी ने दावा किया कि रिफायनरी से दहशतगर्दों को खदेड़ दिया गया है। 40 दहशतगर्द भी मारे गए हैं।

TOPPOPULARRECENT