Sunday , December 17 2017

इलाक़ाई यकजहती के लिए ख़ानगी शोबा के किरदार में इज़ाफ़ा ज़रूरी

एशियाई ममालिक ने आज ख़ानगी शोबा की सार्क की इलाक़ाई यकजहती में शमूलियत में इज़ाफे की ज़रूरत पर ज़ोर दिया और कहा कि इलाक़ा में तिजारत और सरमायाकारी में भी इज़ाफ़ा होना चाहिए। अफ़्ग़ानिस्तान के नायब वज़ीर-ए-तजारत-ओ-सनअत मुज़म्मिल शीनावारी

एशियाई ममालिक ने आज ख़ानगी शोबा की सार्क की इलाक़ाई यकजहती में शमूलियत में इज़ाफे की ज़रूरत पर ज़ोर दिया और कहा कि इलाक़ा में तिजारत और सरमायाकारी में भी इज़ाफ़ा होना चाहिए। अफ़्ग़ानिस्तान के नायब वज़ीर-ए-तजारत-ओ-सनअत मुज़म्मिल शीनावारी ने कहा कि अवाम की नक़ल-ओ-हरकत पूरे सार्क इलाक़े में बलारुकावट होनी चाहिए।

हमें इजतिमाई तौर पर मआशी तरक़्क़ी के लिए जद्द-ओ-जहद करने की ज़रूरत है। ख़ानगी शोबा इलाक़ाई यकजहती में इज़ाफ़ा करने के लिए अहम किरदार अदा करसकता है। ऐडिशनल सेक्रेटरी विज़ारत तिजारत बंगला देश मुर्तुज़ा रज़ा चौधरी ने भी ईसी किस्म के ख़्यालात का इआदा करते हुए कहा कि तिजारत में इलाक़ाई तआवुन के लिए सार्क तिजारत बहुत कम है।

इस में इज़ाफ़ा ज़रूरी है। ख़ानगी शोबे की शमूलियत और तआवुन सार्क की यकजहती के लिए एहमियत रखता है। चौधरी ने कहा कि आसियान जैसे ग्रुप बेहतर कारकर्दगी का मुज़ाहरा कररहे हैं। नेपाल के मोतमिद तिजारत माधव प्रसाद रेगमी ने कहा कि रुक्न ममालिक को खासतौर पर ख़ानगी शोबा को सार्क इलाक़े की पायदार तरक़्क़ी के लिए मुशतर्का जद्द-ओ-जहद करनी चाहिए।

मोतमिद फ़रोग़ तिजारत अथॉरीटी पाकिस्तान राबिया जावेरी आग़ा ने कहा कि इलाक़ाई यकजहती से ग़ुर्बत, नाख़्वान्दगी और सनफ़ी अदम मुसावात जैसे मसाइल से मुक़ाबला करने में मदद मिलेगी। एक ख़बर के बमूजब जुनूबी एशीया में 50 करोड़ से ज़्यादा अफ़राद ख़त ग़ुर्बत की सतह से नीचे ज़िंदगी गुज़ार रहे हैं।

ओहदेदारों ने ज़मीनी, फ़िज़ाई और बहरी रवाबित इलाक़ा गीर सतह पर क़ायम करने की ज़रूरत दिया। हिन्दुस्तान के मोतमिद तिजारत एस आर राव‌ ने कहा कि ज़मीनी रास्ते से सार्क ममालिक खासतौर पर हिन्दुस्तान और पाकिस्तान की बाहमी तिजारत में इज़ाफे की ज़रूरत है।

उन्होंने कहा कि सिर्फ़ हिन्दुस्तान ख़ुशहाल नहीं होसकता। उसकी ख़ुशहाली पड़ोसी ममालिक की ख़ुशहाली से मरबूत है। हम तिजारत में इज़ाफ़ा करसकते हैं और पूरे इलाक़े में एतिमाद बहाल करसकते हैं। हम अवाम की बाहमी ख़ुशहाली के लिए जद्द-ओ-जहद करसकते हैं। ये तमाम ओहदेदार फ़िक्की की पांचवीं सार्क बिज़नस लीडर्स कान्क्लेव से ख़िताब कररहे थे।

TOPPOPULARRECENT