Sunday , December 17 2017

इलाज कराने के दौरान अस्पताल से पकड़ा गया नक्सली

पटना 21 जून : दारुल हुकूमत के कुर्जी होली फैमिली अस्पताल में इलाज कराने के दौरान एक नक्सली सुभाष यादव (जहानाबाद) को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वह तीन दिन पहले बुखार का इलाज कराने के लिए यहां आया था। उसका कई नक्सली वारदात में हाथ बताया

पटना 21 जून : दारुल हुकूमत के कुर्जी होली फैमिली अस्पताल में इलाज कराने के दौरान एक नक्सली सुभाष यादव (जहानाबाद) को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वह तीन दिन पहले बुखार का इलाज कराने के लिए यहां आया था। उसका कई नक्सली वारदात में हाथ बताया जाता है। मसौढ़ी के पंचपन गांव में 24 मई, 2010 को हुए चमेली देवी और मिथिलेश यादव (मां-बेटे) की क़त्ल के बाद से वह फरार था। इस क़त्ल में उसने ही अहम किरदार निभायी थी।

माओनवाज लीडर राधेश्याम का है भाई

एसएसपी मनु महाराज ने गिरफ्तारी की तस्दीक करते हुए बताया कि वह मसौढ़ी डबल मर्डर केस समेत कई नक्सली वारदातों में शामिल था और काफी दिनों से फरार चल रहा था। सुभाष सीपीआइ माओवादी उमेश उर्फ राधेश्याम यादव का भाई है। वह जक्कनपुर के चांदपुर बेला में नौ नवंबर, 2010 में पकड़ा गया था। उसके साथ पुलिस ने लाल दास मोची (पालीगंज) को भी गिरफ्तार किया था। उसके पास से जमुई जेल और बेऊर जेल का मैप भी बरामद हुआ था।

वे जहानाबाद जेल ब्रेक के बाद हुई बैठक में भी शामिल थे।
यह खुलासा इन लोगों ने पकड़े जाने के बाद किया था। यह भी जानकारी मिली थी कि इन दोनों जेलों को उड़ाने की साजिश सितंबर, 2010 में लखीसराय के जंगल में रची गयी थी। लेकिन, नवंबर में ही वे जक्कनपुर में पकड़े गये।

हो रही पूछताछ पुलिस सुभाष यादव से साल 2010 में जमुई जेल और बेऊर जेल को उड़ाने के लिए लखीसराय में हुई बैठक में शामिल होने के सिलसिले में भी पूछताछ कर रही है। इसके अलावा मसौढ़ी डबल मर्डर कांड में भी जानकारी ली जा रही है।

TOPPOPULARRECENT