इलाहाबाद का नाम बदलने का ऐलान, राज्यपाल से मिली मंजूरी

इलाहाबाद का नाम बदलने का ऐलान, राज्यपाल से मिली मंजूरी

योगी आदित्यनाथ ने  इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने का ऐलान शनिवार को किया। साथ ही इसके लिए राज्यपाल राम नाईक ने भी अपनी सहमति दे दी है।

कुंभ मेले के आयोजन से जुड़ी मार्गदर्शक मंडल की पहली बैठक के बाद शनिवार को सीएम ने यह जानकारी दी। इस बैठक की अध्यक्षता राज्यपाल राम नाईक ने की।

बैठक के बाद मीडिया को जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने बताया कि बैठक में संतों और अन्य गणमान्य लोगों ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने का प्रस्ताव रखा। जिसे सरकार की ओर से पहले ही प्रयागराज मेला प्राधिकरण का गठन करते हुए सिद्धांत रूप में मंजूरी दी जा चुकी है। अब प्रदेश के राज्यपाल ने भी इस प्रस्ताव पर अपनी सहमति जता दी है। अब हमारा प्रयास होगा कि जल्द से जल्द इलाहाबाद का नाम प्रयागराज हो जाए।

मुख्यमंत्री ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने को समर्थन देते हुए कहा कि जहां दो नदियों का संगम होता है उसे प्रयाग कहा जाता है। उत्तराखंड में भी ऐसे कर्णप्रयाग और रुद्रप्रयाग स्थित है। हिमालय से निकलने वाली देवतुल्य दो नदियों का संगम इलाहाबाद में होता है और यह तीर्थों का राजा है। ऐसे में इलाहाबाद का नाम प्रयाग राज किया जाना उचित ही होगा।

कुंभ मेले की तैयारियों पर जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने बताया कि करीब 3200 हेक्टेयर में आयोजित होने वाले मेले में स्वच्छता पर खास ध्यान रखा जाएगा। मेले में 1,22,000 शौचालय और 20,000 कूड़ेदान बनेंगे। इसके साथ ही 11,400 सफाई कर्मी तैनात किए जाएंगे। मेले में पहली बार विदेशी मुद्रा विनियम के लिए तीन सेंटर बनाए जाएंगे। इसके साथ ही 4 बैंक शाखाएं , 20 एटीएम और 34 मोबाइल टावर भी लगेंगे।

Top Stories