Friday , December 15 2017

इलाहाबाद में राष्ट्रद्रोह के आरोपों का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों के साथ वकीलों ने की मारपीट

इलाहाबाद: जुमेरात के रोज़ इलाहाबाद में जेएनयू छात्र नेताओं पर लगे राष्ट्रद्रोह के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे वामपंथी लोगों को वकीलों के एक समूह ने बुरी तरह पीटा| वामपंथी संगठन ने आरोप लगाया है कि हमला करने वाले लोग आरएसएस के गुंडे थे और इन्होंने काला कोट पहन रखा था।
केरानीगंज थाना प्रभारी इंस्पेक्टर समीर सिंह ने बताया कि ये घटना दोपहर उस वक़्त हुई जब वाम दलों से संबद्ध छात्र नेता और ट्रेड यूनियन नेता, कन्हैया कुमार के खिलाफ पुलिस कार्रवाई के विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों का जुलूस ज़िला अदालत परिसर के पास से गुजर रहा था तभी प्रदर्शनकारियों के साथ वकीलों ने मारपीट की। सिंह ने कहा कि प्रदर्शनकारियों को चोटें आई हैं और उनकी शिकायत दर्ज कर ली गयी है उन्होंने आगे कहा कि लेकिन प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ भी जिला प्रशासन की अनुमति के बिना जुलूस निकालने पर क़ानूनी कार्यवाई की जा सकती है।
इस बीच, भाकपा माले (न्यू डेमोक्रेसी) द्वारा जारी बयान में आरोप लगाया गया  है कि जुलूस पर हमला काला कोट पहने हुए आरएसएस के गुंडों के एक समूह ने किया है। पार्टी के सचिव आशीष मित्तल ने कहा  कि “बहुत हैरत की बात है कि ये हमला एसएसपी आफ़िस से सिर्फ़ 100 मीटर की दूरी पर हुआ है | लोगों की बुनियादी समस्याओं को हल करने में नाकाम और भविष्य के लिए अस्थिर राजग सरकार आरएसएस अपनी नाकामियों के ख़िलाफ़ बोलने वाले सभी लोगों पर आरएसएस द्वारा  हमले करवाकर आम लोगों के दिलों में दहशत पैदा करना चाहती है”

TOPPOPULARRECENT