इशरत जहां एनकाउंटर :अमित शाह की मुश्किलात में इज़ाफ़ा

इशरत जहां एनकाउंटर :अमित शाह की मुश्किलात में इज़ाफ़ा
अहमदाबाद, 17 जुलाई: ( पी टी आई )बी जे पी लीडर अमित शाह की मुश्किलात में आज मज़ीद इज़ाफ़ा हो गया जबकि सी बी आई ने इशरत जहां फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुक़द्दमा में चार्जशीट के साथ एक पेन ड्राईव भी पेश किया है जिस में मुबय्यना तौर पर एक मुल्ज़िम पुलिस ओहद

अहमदाबाद, 17 जुलाई: ( पी टी आई )बी जे पी लीडर अमित शाह की मुश्किलात में आज मज़ीद इज़ाफ़ा हो गया जबकि सी बी आई ने इशरत जहां फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुक़द्दमा में चार्जशीट के साथ एक पेन ड्राईव भी पेश किया है जिस में मुबय्यना तौर पर एक मुल्ज़िम पुलिस ओहदेदार और साबिक़ वज़ीर-ए-दाख़िला गुजरात के माबैन टेलीफ़ोन पर हुई बातचीत का मतन मौजूद है।

मुल्ज़िम पुलिस ओहदेदार इनमें एक मुअत्तल आई पी एस ओहदेदार ने सी बी आई को दो पेन ड्राइव हवाले किए हैं जिन में एक जी एल सिंघल और अमित शाह के माबैन खु़फ़ीया तौर पर कलमबंद की गई बातचीत पर मुश्तमिल है ।

जी एल सिंघल ने बताया कि इन फाइल्स में उनकी और अमित शाह की टेलीफ़ोन बातचीत रिकार्ड की गई है । सी बी आई ने अपनी चार्जशीट में बताया कि ये बातचीत अगस्त और सितंबर 2009 में पुलिस के क़ानूनी अग़राज़ के लिए बेजा इस्तेमाल से मुताल्लिक़ है ।

सी बी आई ने इस पेन ड्राईव को अपने क़ब्ज़े में लेने से क़ब्ल पंचनामा किया । इस में मौजूद बातचीत की तफ़सीलात का चार्जशीट में इन्किशाफ़ ( ज़ाहिर) नहीं किया गया है । वाज़िह रहे कि जी एल सिंघल के ख़िलाफ़ सी बी आई ने इशरत जहां और दीगर तीन को 15 जून 2004 को हुए मुबय्यना फ़र्ज़ी एनकाउंटर के सिलसिला में क़त्ल और साज़िश के ताल्लुक़ से चार्जशीट पेश की है ।

वो इस वक़्त ज़मानत पर हैं क्योंकि सी बी आई गिरफ़्तारी के मुक़र्ररा 90 दिन के अंदर चार्जशीट पेश करने में नाकाम रही थी ।अमित शाह के ख़िलाफ़ दीगर एनकाउंटर मुक़द्दमात सुहराब उद्दीन शेख़ और तुलसी राम प्रजाप्रति के सिलसिला में भी चार्जशीट पेश की गई है ।

उन्हें जुलाई 2010 में गिरफ़्तार किया गया था और वो इस वक़्त ज़मानत पर है । वाज़िह रहे कि सी बी आई ने इशरत जहां और दीगर तीन के फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुक़द्दमा में 7 पुलिस ओहदेदारान बिशमोल सिंघल के ख़िलाफ़ चार्जशीट पेश की है । सी बी आई ने इल्ज़ाम आइद किया कि ये एनकाउंटर फ़र्ज़ी था और गुजरात पुलिस व इंटेलीजेंस ब्यूरो मुशतर्का तौर पर ये कार्रवाई की ।

सी बी आई ने अपनी पहली चार्जशीट में इस एनकाउंटर के पसेपर्दा मुबय्यना साज़िश की तफ़सीलात का इन्केशाफ़ नहीं किया है लेकिन इसने ज़्यादा ज़ोर इस बात पर दिया कि ये एनकाउंटर फ़र्ज़ी था । इम्कान है कि तहक़ीक़ाती एजेंसी अनक़रीब दूसरी चार्जशीट पेश करेगी जिस में इस साज़िश के पसेपर्दा अफ़राद के नामों का इन्किशाफ़ ( पर्दाफाश ) होगा ।

Top Stories