Monday , December 18 2017

इशरत जहां फ़र्ज़ी एनकाउंटर……. हक़ायक़ की रोशनी में

अहमदाबाद २३ नवंबर (एजैंसीज़) इशरत जहां फ़र्ज़ी एनकाउनटर के ताल्लुक़ से एस् आई टी की रिपोर्ट ने कई हक़ायक़ को बेनकाब किया है। ये भी पता चला है कि पुलिस ओहदेदारान ने महिज़ नरेंद्र मोदी की ख़ुशनुदी और मैड्ल्स् की लालच में ये कार्रवाई की।

अहमदाबाद २३ नवंबर (एजैंसीज़) इशरत जहां फ़र्ज़ी एनकाउनटर के ताल्लुक़ से एस् आई टी की रिपोर्ट ने कई हक़ायक़ को बेनकाब किया है।

ये भी पता चला है कि पुलिस ओहदेदारान ने महिज़ नरेंद्र मोदी की ख़ुशनुदी और मैड्ल्स् की लालच में ये कार्रवाई की।

जहां तक फ़र्ज़ी एनकाउनटर का ताल्लुक़ है पाँच ऐसे इन्किशाफ़ात हुए जिस ने ये साबित कर दिया कि इशरत जहां और दीगर तीन को पहले ही हलाक किया जा चुका था।

पुलिस का दावा और हक़ायक़ इस तरह हैं :

(1) गोली लगने के मुक़ाम पर बैरूनी ज़ख़म के निशानात अंदरूनी ज़ख़म से बड़े थे

हक़ीक़त : इससे साफ़ ज़ाहिर है कि क़रीबी फ़ासिला से उन्हें गोली मारी गई। इन तमाम को इस वक़्त हलाक किया गया जबकि वो बैठे हुए थॆ। उन्हें बिलकुल क़रीब से गोली मारी गई।

(2) पुलिस ने ये दावा किया था कि 70 गोलीयां एनकाउनटर में इस्तिमाल हुई। उन्हों ने कार की बाएं तरफ़ गोलीयां चलाईं जिस से एक टावर फट पड़ा और गाड़ी सीधी जानिब डीवाईडर से टकरा गई ।

हक़ीक़त : ये सरासर झूट है क्योंकि अगर टावर पर गोली चलाने से फुट पड़ने की सूरत में गाड़ी बाएं जानिब बढ़ती हैं।

(3) ज़ख़म ए के 56 राइफ़ल और 9mm पिस्तौल के थे जबकि पुलिस के पास ये हथियार नहीं पाए जाती। इस के बरअक्स महलोकीन के पास से ये हथियार बरामद किए गई। फ़ार नसक़ रिपोर्ट में ऐसे किसी धमाको माद्दे का पता नहीं चला।

हक़ीक़त : पुलिस ने वही बंदूक़ें हलाक करने के बाद नाशों पर रख दी थीं।

(4) महलोकीन के गले में शनाख़ती कार्ड दस्तयाब हुई। इशरत जहां ऐसे वक़्त अपने कॉलिज का शनाख़ती कार्ड क्यों पहने हुए थी? इन के पास से एक रुपया भी बरामद नहीं हुआ।

हक़ीक़त : पुलिस ने हलाक करने के बाद उन के गले में शनाख़ती कार्ड और नक़द रक़म रख दी।

(5) 15 जून 2004 -ए-को पोस्टमार्टम किया गया। हलाकतें 12 सॆ 24 घंटे पहले हो चुकी थी। यानी 3.40 बजे सुबह से क़बल उन्हें हलाक कर दिया गया लेकिन पुलिस ने एनकाउंटर का वक़्त 4.00 बजे सुबह बताया।

हक़ीक़त : पुलिस ने इन चार अफ़राद को किसी और मुक़ाम पर बहुत पहले हलाक कर दिया था।

नरेंद्र मोदी का तआक़ुब कर रहे मुक़द्दमात: बॆस्ट बेकरी मुक़द्दमा, बिलकीस बानो मुक़द्दमा , सुहराब उद्दीन एनकाउनटर मुक़द्दमा, हरेन पांड्या मुक़द्दमा । सुप्रीम कोर्ट ने माबाद गोधरा फ़सादाद से मुताल्लिक़ तक़रीबन 9 मुक़द्दमात में तहक़ीक़ात के लिए एस् आई टी का तक़र्रुर किया।

TOPPOPULARRECENT