Tuesday , December 12 2017

इश्क का खौफनाक अंजाम कि रूह भी कांप जाए

गाजीपुर, 10 जुलाई: उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में पंचायत का फैसला नौजवान को मंजूर नहीं हुआ और वह खौफनाक जुर्म कर बैठा।

गाजीपुर, 10 जुलाई: उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में पंचायत का फैसला नौजवान को मंजूर नहीं हुआ और वह खौफनाक जुर्म कर बैठा।

अपनी महबूबा से अलग होने के ख्याल ने उसे इस कदर डरा दिया कि न सिर्फ उसने महबूबा और उसके बच्चे का गला दबाकर कत्ल कर दिया बल्कि खुद भी फांसी लगाकर जान दे दी।

यह वाकिया पीर के दिन रेहड्डा गांव में हुई। नौजवान की लाश एक बबूल के पेड़ से लटका मिला, जबकि माशूका और बच्चे के लाश वहीं नीचे पड़े हुए थे। मक्तूला की जेब से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। पुलिस ने मुक्तूला के खिलाफ कत्ल का मुकदमा दर्ज किया है।

पुलिस के मुताबिक सैदपुर के सरैया मौजा का साकिन संदीप प्रभाकर (24) का गांव की ही चंद्रकला (22) से इश्क चल रहा था। चार साल पहले चंद्रकला की शादी बिजरवां गांव के साकिन प्रकाश के साथ हो गई जिससे उसे एक बेटा गोलू (03) था। प्रकाश अमृतसर में नौकरी कर रहा था।

इधर आशिक अपनी महबूबा को भुला नहीं सका। महबूबा भी उसके साथ रहने के लिए घर से भाग आई। कुछ दिनो से दोनों गांव के आसपास ही रह रहे थे। काफी कोशिशों के बाद घर वालों को मालूम हुआ कि चंद्रकला इसी इलाके में संदीप के साथ रह रही है।

जुमे के दिन इस मामले में गांव में पंचायत हुई। तय हुआ कि 10 जुलाई को लड़की और लड़के दोनों के वालिद जाकर दोनों को घर ले आएं।

पंचायत के इस फैसले की खबर संदीप को मिली। लेकिन यह उसे नागवार लगी। उसने महबूबा और उसके बेटे को मौत के घाट उतारने के बाद खुद भी जान देने का फैसला कर लिया। वह रात में चंद्रकला और उसके बेटे दोनों का गला घोंट कर कत्ल करने के बाद खुद भी बबूल के पेड़ से लटक गया।

TOPPOPULARRECENT