Saturday , November 18 2017
Home / Khaas Khabar / इश्क़ ओ दुनिया की ज़िन्दगी, पढ़िए ‘ज़ौक़’ की पूरी ग़ज़ल

इश्क़ ओ दुनिया की ज़िन्दगी, पढ़िए ‘ज़ौक़’ की पूरी ग़ज़ल

अब तो घबरा के ये कहते हैं कि मर जायेंगे
मर के भी चैन ना पाया तो किधर जायेंगे

ख़ाली ऐ चारागरों होंगे बहुत मरहमदान
पर मेरे ज़ख्म नहीं ऐसे कि भर जायेंगे

पहुँचेंगे रहगुज़र-ए-यार तलक हम क्योंकर
पहले जब तक न दो-आलम से गुज़र जायेंगे

आग दोजख़ की भी हो आयेगी पानी-पानी
जब ये आसी अरक़-ए-शर्म से तर जायेंगे

हम नहीं वह जो करें ख़ून का दावा तुझपर
बल्कि पूछेगा ख़ुदा भी तो मुकर जायेंगे

रुख़े-रौशन से नक़ाब अपने उलट देखो तुम
मेहरो-मह नज़रों से यारों के उतर जायेंगे

(ज़ौक़)

TOPPOPULARRECENT