Tuesday , December 12 2017

इसराईली प्रोडक्ट के बाईकॉट के रुजहान में ग़ैर मामूली इज़ाफ़ा

इसराईल के ख़िलाफ़ जारी ग़मो ग़ुस्सा में बतदरीज इज़ाफ़ा होता जा रहा है। फ़लस्तीन बिलख़ुसूस ग़ाज़ा पर इसराईली हमलों में इज़ाफ़ा के साथ साथ दुनिया भर में इसराईल की मईशत को नुक़्सान पहुंचाने के लिए इसराईली अशीया का बाईकॉट करने के रुजहान में ब

इसराईल के ख़िलाफ़ जारी ग़मो ग़ुस्सा में बतदरीज इज़ाफ़ा होता जा रहा है। फ़लस्तीन बिलख़ुसूस ग़ाज़ा पर इसराईली हमलों में इज़ाफ़ा के साथ साथ दुनिया भर में इसराईल की मईशत को नुक़्सान पहुंचाने के लिए इसराईली अशीया का बाईकॉट करने के रुजहान में बतदरीज इज़ाफ़ा होता जा रहा है।

इसराईली अशीया के मुक़ातआ के लिए आलमे इस्लाम के मुसलमानों के इलावा मुख़ालिफ़ इसराईल ज़हन रखने वालों की जानिब से ताहाल सोशल मीडिया का ज़बरदस्त इस्तेमाल किया गया और इस के मुसबत असरात भी बरामद होने लगे हैं और इसराईल की जानिब से उस की अपनी मईशत को होने वाले नुक़्सान का एतराफ़ भी किया जा चुका है लेकिन अब तक सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हुए इसराईली प्रोडक्ट्स का बाईकॉट करने की अपील करने वालों ने अब सोशल मीडिया की सब से बड़ी वेबसाइट के बाईकॉट की अपील शुरू करदी है।

सोशल मीडिया के दुनिया में तहलका मचाने वाले फेसबुक के मुताल्लिक़ इन्किशाफ़ात के ज़रीए इस बात की अपील की गई है कि फेसबुक का बाईकॉट करते हुए इसराईली मईशत को ज़बरदस्त नुक़्सान पहुंचाया जा सकता है। चूँकि फेसबुक के सदर नशीन मार्क ज़ूकरबर्ग एक यहूदी हैं और यहूदी क़ौम में 2011 से अब तक के सब से बाअसर यहूदी का एज़ाज़ उन्हें हासिल है।

मार्क ज़ूकर बर्ग की जानिब से तैयार कर्दा फेसबुक का इस्तेमाल दुनिया भर में करोड़ों अफ़राद करते हैं लेकिन फेसबुक का इस्तेमाल एक खुले प्लेटफार्म के तौर पर होता है मगर इस के बावजूद अगर बारीक बीनी से फेसबुक के अमल का जायज़ा लिया जाये तो ये वाज़ेह होगा कि फेसबुक मुख़ालिफ़ इसराईल प्रोपगंडा करने वाले पेजेस के ख़िलाफ़ सरगर्म अमल है और साथ ही साथ मुख़ालिफ़ इस्लाम प्रोपगंडा करने वाले पेजेस की हौसला अफ़्ज़ाई करता रहा है।

फेसबुक की आमदनी 18 बिलीयन डॉलर्स यानी एक लाख 8 हज़ार करोड़ तक पहुंच चुकी है। अगर फेसबुक के बाईकॉट के लिए फेसबुक पर अकाउंट रखने वाले अवाम जुज़ वक़्ती बाईकॉट करते हैं ऐसी सूरत में फेसबुक को ज़ाइद अज़ 10 हज़ार करोड़ का नुक़्सान पहुंचाया जा सकता है। वाट्स ऐप पर गश्त कर रहे एक वीडीयो के मुताबिक़ रोज़ाना फेसबुक की जानिब से 5 लाख जी बी डाटा इस्तेमाल किया जाता है, अगर फेसबुक पर मौजूद अफ़राद में से सिर्फ़ 10 फ़ीसद अकाउंट रखने वाले भी जुज़ वक़्ती तौर पर फेसबुक अकाउंट को डी एक्टिवेट करते हैं तो इस के मुसबत नताइज बरामद होने की तवक़्क़ो है।

इसराईल के ख़िलाफ़ एहतिजाज में फेसबुक अकाउंट के ज़रीए हिस्सा लेने के लिए फेसबुक अकाउंट को डी एक्टिवेट करना पड़ेगा। अकाउंट डी एक्टिवेट करने की सूरत में ये मुस्तक़िल डी एक्टिवेशन नहीं होगा बल्कि आरज़ी तौर पर डी एक्टिवेट किया जाएगा। फेसबुक की जानिब से अकाउंट डी एक्टिवेट किए जाने की वजह दरयाफ़्त की जाएगी और उस जगह पर अगर Protest Against Israel तहरीर करते हुए पैग़ाम रवाना कर दिए जाएं तो ये पैग़ाम रास्त फेसबुक को पहुंचेगा।

ऐसा करने से अंदरून 20 यौम इसराईली मईशत को 20 हज़ार करोड़ का नुक़्सान हो सकता है और 10 ता 20 लाख GB डैटा में गिरावट आ सकती है और सोशल मीडिया के इस वसीअ प्लेटफार्म पर अवामी ख़ला के बाइस मुश्तहरीन की तादाद में भी कमी हो सकती है। एक तजज़िया के मुताबिक़ फेसबुक पर मौजूद अफ़राद में अगर 20 फ़ीसद भी फेसबुक का एक माह तक मुक़ातआ (बाईकॉट) करते हैं तो ये 100 इसराईली प्रॉडक्ट्स के एक बरस तक बाईकॉट के मुमासिल होगा।—– मुहम्मद मुबश्शिर उद्दीन ख़ुर्रम

TOPPOPULARRECENT