Thursday , June 21 2018

‘इसराईली राजदूत की दावत’ मिस्री एम पी की रुक्नीयत ख़त्म

मिस्र के ऐवान नुमाइंदगान (पार्लीमान) के कुल 596 अराकीन में से 408 ने एक रुक्न तौफ़ीक़ उकाशा की रुक्नीयत ख़त्म करने के हक़ में वोट दिया है। उनका क़ुसूर ये है कि उन्होंने क़ाहिरा में तैनात इसराईली सफ़ीर हाइम कोरियन को अपने घर पर खाने पर मदऊ किया था।

इस मुआमले की तहक़ीक़ात के लिए एक कमेटी तशकील दी गई थी। उसने अपनी रिपोर्ट में तौफ़ीक़ उकाशा पर इल्ज़ाम आयद किया था कि वो किसी ग़ैर मुल्क के सफ़ीर से मिलने का फ़ैसला करके पार्लीमानी क़वाइद की ख़िलाफ़वर्ज़ी के मुर्तक़िब हुए हैं।

इस रिपोर्ट में उकाशा के इस बयान पर तवज्जा मर्कूज़ की गई थी कि उन्होंने कोरियन के साथ तज़वीराती अहमीयत के हामिल इशूज़ पर तबादले ख़्याल किया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि उकाशा के इस मौज़ू पर एक ग़ैर मुल्की सफ़ीर से तबादले ख़्याल से मुज़ाकरात में मिस्र का मोक़िफ़ मन्फ़ी तौर पर मुतास्सिर हो सकता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सिर्फ वज़ारते ख़ारजा को सरकारी तौर पर मिस्र में ग़ैर मुल्की सिफ़ारती मिशनों के अरकान से मुलाक़ात और मुज़ाकरात का हक़ हासिल है।

TOPPOPULARRECENT